जीएसटी कलेक्शन में गिरावट, जून में रहा 1 लाख करोड़ रूपये से कम

New Delhi: वित्त मंत्रालय द्वारा जून महीने के जीएसटी कलेक्शन की जानकारी सार्वजनिक कर दी गई है। इस वित्त वर्ष में पहली बार किसी महीने का जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ से कम रह गया। जून में कुल जीएसटी कलैक्शन 99, 939 करोड़ रुपये रहा।

मई में जीएसटी कलेक्शन 1,00,289 करोड़ रुपये और अप्रैल में 1,13,865 करोड़ रुपये रहा था। वित्त मंत्रालय द्वारा ट्वीट करके जून महीने के जीएसटी कलेक्शन की जानकारी दी गई।

वित्त मंत्रालय ने ट्वीट किया कि जून, 2019 में कुल सकल जीएसटी राजस्व 99,939 करोड़ रुपये रहा, जिसमें सीजीएसटी 18,366 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 25,343 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 47,772 करोड़ रुपये (आयात पर एकत्र 21,980 करोड़ रुपये सहित) और उपकर 8,457 करोड़ रुपये हैं।

सरकार को अपने राजकोषीय लक्ष्य को पूरा करने के लिए और राज्यों के नुकसान की भरपाई करने के लिए हर महीने जीएसटी से एक लाख करोड़ से अधिक के कलेक्शन की आवश्यकता है।

अपनी आखिरी बैठक में, जीएसटी परिषद ने सुधारों की एक बड़ी घोषणा की है जिसके अंतर्गत जीएसटी परिषद ने जीएसटी नियमों के सरल बनाने, जीएसटी दरों में कटौती करने और अन्य वस्तुओं को जीएसटी के दायरे में लाने जैसे बड़े फैसले शामिल हैं।

परिषद की 35 वीं बैठक के बाद पत्रकारों को जानकारी देते हुए, राजस्व सचिव ए बी पांडे ने कहा कि नई जीएसटी रिटर्न फाइलिंग प्रणाली 1 जनवरी, 2020 से पूरी तरह से लागू हो जाएगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में परिषद की बैठक ने ऐसी संस्थाओ जो जीएसटी की दरों में  कटौती के बाद भी उपभोक्ताओं को दरों में कटौती का लाभ नहीं दिया उनपर 10 प्रतिशत का जुर्माना लगाने का निर्णय लिया है। इसके अलावा, 2017-18 वार्षिक जीएसटी दाखिल करने की तारीख को बढ़ा दिया गया है।