आधुनिक भारत में सबसे बड़ी गलती थी ‘विभाजन’: केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह

New Delhi: पीएमओ ( प्रधानमंत्री कार्यालय) के केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने विभाजन को आधुनिक भारत की सबसे बड़ी भूल माना है। दिल्ली में एक कार्यक्रम में सभा को संबोधित कर रहे केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केवल कुछ लोगों की महत्वाकांक्षाओं के कारण विभाजन का दंश हमें झेलना पड़ा है। उन्होंने कहा कि अगर यह न हुआ होता तो आज जम्मू और कश्मीर पर होने वाली चर्चाएँ नहीं हो रही होंती।

न तो किसी प्रकार की आर्टिकल 370 का मामला तूल पकड़ता और न ही इसे निरस्त करने को लेकर इतना बड़ा संघर्ष होता। विभाजन को लेकर राष्ट्रपिता की सोच को जितेंद्र सिंह ने याद किया। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने कहा था कि यदि विभाजन हुआ तो यह उनके मृत शरीर पर ही होगा। पहले स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर वे निराश थे और बंगाल के लिए रवाना हो गए थे।

जितेंद्र सिंह ने इतिहास के इन कड़वे लम्हों को याद करते हुए कार्यक्रम में भावुक हो उठे थे। उन्होंने सभा से कहा कि “आप देख सकते हैं कि इतिहास में एक दुर्घटना के साथ हम कितने आगे या पीछे चले गए। दो-राष्ट्र सिद्धांत के आधार पर विभाजन ने दर्द के अलावा कुछ नहीं दिया है, इसने सिर्फ हिंसाओं में इजाफा ही किया है। जिस उम्मीद और सपने के साथ जिस दिन बांग्लादेश का गठन हुआ, वह निरर्थक साबित हुआ।”