प्याज की बढ़ती कीमतों से राहत के लिये 1 लाख टन बफर स्टॉक बाजार में भेज रही सरकार

New Delhi : प्याज की बढ़ती कीमतों के बीच केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा है कि लोगों को राहत देने के लिए सरकार द्वारा प्रमुख रसोई सामग्री के बफर स्टॉक का एक लाख टन जारी किया जा रहा है। वह बुधवार को मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर 3 नवंबर के उपचुनाव से पहले इंदौर जिले के धरमपुरी शहर में एक रैली में हिस्सा लेने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। केंद्रीय मंत्री ने कहा- सरकार ने प्याज की बढ़ती कीमतों के मुद्दे पर पहले ही संज्ञान ले लिया है और इसका एक लाख टन बफर स्टॉक नैफेड के माध्यम से जारी किया जा रहा है।

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा- हमने समय पर देश से प्याज के निर्यात पर अच्छी तरह से प्रतिबंध लगाया और इसके आयात के लिये मार्ग प्रशस्त किया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने बुधवार को प्याज की बढ़ती कीमतों के लिये केंद्र सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया था और कहा कि वह केंद्र को कमोडिटी व्यापारियों पर लगाये गये स्टॉक सीमा के बारे में पुनर्विचार करने को कहेंगे।
नए कृषि कानूनों पर कांग्रेस के विरोध का जिक्र करते हुये, तोमर ने विपक्षी पार्टी पर दोहरी नीति का आरोप लगाया। कांग्रेस ने अपने 2019 के लोकसभा चुनाव घोषणापत्र में व्यापार को नियमों से मुक्त बनाने का वादा किया था। कांग्रेस ने यह भी कहा था कि यह अंतर-राज्य व्यापार को प्रोत्साहित करेगा, कृषि उत्पादन विपणन समितियों (एपीएमसी) को बंद करेगा, अनुबंध खेती को प्रोत्साहन देगा और आवश्यक वस्तु अधिनियम को समाप्त करेगा।
तोमर ने कहा – लेकिन अब कांग्रेस पार्टी बिचौलियों के दबाव के कारण इन नीतियों का विरोध कर रही है। किसानों से किये गये अपने वादों से मुकर रही है। भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने कृषि सुधारों के लिये नये कानून बनाये। इसलिए, कांग्रेस अब पेट दर्द से पीड़ित है।

केंद्रीय मंत्री राज्य के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावत के समर्थन में एक रैली को संबोधित करने के लिए इंदौर में थे, जो यहां सेवर विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 + one =