गावस्कर बोले – लाहौर में बर्फबारी हो सकती है लेकिन भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज संभव नहीं

New Delhi : क्रिकेट लीजेंड सुनील गवास्कर ने कहा – लाहौर में बर्फबारी होना आसान है लेकिन मौजूदा परिस्थितियों में भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज होना मुश्किल है। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान रमीज राजा ने जब सुनील गावसकर से दोनों देशों के बीच क्रिकेट सीरीज के बारे में पूछा तो गावसकर ने हंसते हुए एक लाइन में जवाब दे दिया।
भारत और पाकिस्तान के बीच बीते 8 साल से कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं हुई है। हालांकि दो दिन पहले पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने दोनों देशों के बीच सीरीज का सुझाव दिया था। अख्तर ने कहा था कि दोनों देश किसी तटस्थ जगह पर सीरीज खेल सकते हैं। इसके बाद पूर्व कप्तान राजा ने भी दोनों देशों के बीच सीरीज की वकालत की थी। हालांकि गावसकर ने साफ कर दिया – उन्हें नहीं लगता कि निकट भविष्य में ऐसा संभव हो सकता है। अपने यूट्यूब चैनल पर सुनील गावसकर के साथ बातचीत में सोमवार को राजा ने कहा कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज होती है तो इसका फायदा होगा और इससे दोनों को सीखने को मिलेगा। हालांकि गावसकर ने साफ कर दिया कि फिलहाल ऐसा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा – सिर्फ वर्ल्ड कप या आईसीसी टूर्नमेंट में ही दोनों टीमें भिड़ सकती हैं लेकिन द्विपक्षीय सीरीज की फिलहाल कोई उम्मीद नहीं।


पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने हाल में कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहे भारत और पाकिस्तान के लोगों की मदद के लिए दोनों देशों के बीच एक तीन मैचों की वनडे सीरीज कराने का प्रस्ताव रखा था। अख्तर के इस प्रस्ताव पर टीम इंडिया के पूर्व कप्तान कपिल देव और IPL के पूर्व अध्यक्ष राजीव शुक्ला ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी। अब अख्तर के इस प्रस्ताव के समर्थन में पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी भी उतर आए हैं।
अफरीदी ने कहा कि उन्हें कपिल देव और राजीव शुक्ला की टिप्पणियों पर आश्चर्य हुआ, जिन्होंने अख्तर के सुझाव को नकार दिया था। अफरीदी ने कहा – पूरी दुनिया कोरोनो वायरस के खिलाफ लड़ रही है। इस दुश्मन को हराने के लिए हमें हमारे क्षेत्र में एकता की जरूरत है। ऐसे में इस तरह की नकारात्मक टिप्पणियों से कोई मदद नहीं मिलेगी।मुझे भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच के शोएब अख्तर के सुझाव में कुछ भी गलत नहीं दिखता।
उन्होंने कहा – कपिल की प्रतिक्रिया ने मुझे हैरान किया। मुझे उनसे बेहतर प्रतिक्रिया की उम्मीद थी। मेरा मानना है कि संकट के समय इस तरह की बात नहीं करनी चाहिए। अफरीदी ने कहा कि उनकी चैरिटी को समर्थन करने के बाद हरभजन सिंह और युवराज सिंह के बारे में जिस तरह की ‘नकारात्मक टिप्पणियां’ हुई वो उससे भी हैरान हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty one − = fifty four