प्रदूषण पर बैठक में शामिल न होने पर गंभीर ने कहा, अगर गाली देने से पलूशन कम होगा तो जमकर गाली दो

New Delhi : शुक्रवार को प्रदूषण को लेकर शहरी विकास मंत्रालय की संसदीय स्टैंडिंग कमेटी की बैठक हुई, जिसमें कई सांसद नदारद रहे। बैठक में ना पहुंचने वालों में पूर्वी दिल्ली से सांसद बीजेपी और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर भी रहे। गौतम गंभीर इंदौर के मैच में कमेंट्री करने पहुंचे हैं और हँसते हुए जलेबी और पोहा खाते दिखे। इस पर सोशल मीडिया में उन्हें जमकर ट्रोल किया गया।

सोशल मीडिया में ट्रोल किए जाने पर गौतम गंभीर ने इसका जवाब दिया। उन्होंने कहा कि अगर मुझे गाली देने से दिल्ली का पलूशन कम होगा तो आप जी भर के गाली दीजिए। गंभीर ने आगे कहा कि मेरे निर्वाचन क्षेत्र और मेरे शहर से जुड़ा मेरा कमिटमेंट, जो कार्य यहां हुए हैं उसके आधार पर जज किया जाना चाहिए।

आपको बता दें कि राजधानी की बिगड़ती वायु गुणवत्ता की स्थिति को देखते हुए शुक्रवार को शहरी विकास मंत्रालय ने संसदीय स्थायी समिति की बैठक बुलाई। इस बैठक में क्रिकेटर से पूर्वी दिल्ली के सांसद बने गौतम गंभीर को भी शामिल होना था लेकिन वो इस बैठक से नदारद रहे और इंदौर में जलेबियां खाते दिखे। इस पर उनकी सोशल मीडिया पर तो जमकर आलोचना हो ही रही है राजनेता भी प्रदूषण को लेकर उनकी गंभीरता पर सवाल उठा रहे हैं।

आम आदमी पार्टी ने शुक्रवार दोपहर ट्वीट किया कि संसदीय कमेटी की बैठक में आज का एजेंडा दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण था, जिसके बारे में एक हफ्ते पहले ही जानकारी दे दी गई थी। लेकिन इस बैठक में गौतम गंभीर गायब रहे। क्या प्रदूषण को लेकर गंभीरता कमेंट्री बॉक्स तक ही सीमित है।

दरअसल आज समिति ने अधिकारियों की अनुपस्थिति के बारे में एक गंभीर टिप्पणी की है। समिति के अध्यक्ष बकायेदारों के गैर-गम्भीरतापूर्ण व्यवहार के बारे में स्पीकर को पत्र लिखेंगे। विशेष रूप से, केंद्र ने दिल्ली में खतरे से निपटने के लिए 262 करोड़ रुपये और अन्य राज्यों को 1192 करोड़ रुपये का आवंटन किया है।