घर में टॉयलेट की परेशानी को देख कर किसान के बेटे ने पांच गांव में बनवाए 484 शौचालय

New Delhi: आपने अक्षय कुमार की फिन्म टॉयलेट एक प्रेम कथा तो देखी होगी। उस फिल्म में घर में शौचालय न होने पर अभिनेता अक्षय कुमार को उनकी पत्नी छोड़ कर चली जाती है। असके बाद अक्षय कुमार पूरे गांव में शौचालय बनवाने की मुहीम चलाकर शौचालय बनवाते हैं। महराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले गणेश देशमुख ने भी ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है।

महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले 34 साल के गणेश देशमुख ने पांच गांवों में 484 टॉयलेट बनवा दिए, ताकि ग्रामीणों को शौच के लिए बाहर न जाना पड़े। दरअसल, गणेश किसान परिवार से हैं। 2006 में 10वीं करने के बाद वे नौकरी करने पुणे चले गए। अपनी गरीबी दूर करना उन्होंने पुणे में कई दिनों तक ट्रक क्लीनर का काम किया और आज वे 15 ट्रक के मालिक हैं।

गणेश बताते हैं कि पुणे में उन्होंने क्लीनर और ड्राइवर का काम किया। लेकिन कमाई न के बराबर थी। कुछ साल रुपए जुटाकर और कर्ज लेकर एक ट्रक खरीदा। धीरे-धीरे कारोबार बढ़ा तो और ट्रक खरीद लिए। हालांकि इस काम में मन को शांति नहीं मिली। तब जाकर सामाजिक कार्य करने का फैसला किया। अब वे 15 ट्रक के मालिक हैं और 25 लोगों को रोजगार दे रहे हैं। चंद्रसेन देशमुख | उस्मानाबाद महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले 34 वर्षीय गणेश देशमुख ने पांच गांवों में 484 टॉयलेट बनवा दिए ताकि ग्रामीणों को बाहर न जाना पड़े। दरअसल 34 वर्षीय गणेश किसान परिवार से हैं। 2006 में 10वीं करने के बाद वे नौकरी करने पुणे चले गए। आज वे 15 ट्रक के मालिक हैं और अपना खुद का ट्रांसपोर्ट बिजनेस चला रहे हैं।
कुछ दिनों पहले बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने ऐलान किया था कि 2014 के बाद 9.6 करोड़ शौचालय का निर्माण किया गया है। 5.6 लाख गांव देश में खुले से शौच से मुक्त हो गए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी तक 2 करोड़ लोगों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाया गया है।