द्रोणाचार्य अवार्ड मिलने से पहले गंभीर के कोच बोले – विश्वकप 2011 फाइनल में उनकी पारी बेहतरीन

New Delhi: पूर्व भारतीय खिलाड़ी और भारतीय जनता पार्टी के सांसद गौतम गंभीर के कोच को इस साल दिए जाने वाले द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए चुना गया है। संजय भारद्वाज काफी लंबे समय तक गौतम गंभीर के कोच रहे। संजय दिल्ली के क्रिकेट में काफी एक्टिव रहे। इनके निर्देशन में गंभीरत, अमित मिश्रा, नवदीप सैनी और जोगिंदर शर्मा जैसे खिलाड़ी निकले हैं। गौतम के कोच ने पुरस्कार मिलने से पहले कहा कि उन्हें विश्वकप 2011 फाइनल में Gautam Gambhir द्वारा खेली गई शानदार पारी सबसे ज्यादा पसंद है।

गौतम गंभीर के कोच संजय भरद्वाज ने IANS से बातचीत में कहा कि उन्हें तब बहुत अच्छा लगता है जब उनके अंडर ट्रेनिंग किए हुए खिलाड़ी विश्वकप में अच्छा प्रदर्शन करते हैं। उन्होंने कहा 2011 विश्वकप के फाइनल में गंभीर की 97 रनों की पारी उनकी सबसे पसंदीदा पारी है। इसके साथ ही उन्हें विश्वकप 2007 में गंभीर और जोगिंदर शर्मा का योगदान भी काफी प्रभावित करता है।

संजय ने आगे कहा मेरे लिए मेरे शिष्य हमेशा वही रहते हैं चाहे वो कितने भी बड़े सेलेब्रिटी बन जाएं। मेरा काम उन्हें सिखाना होता है और मैं वही करता हूं। किसी भी निर्माण के लिए नींव का मजबूत होना सबसे जरूरी होता है।

यूं रहा संजय भरद्वाज का सफर-

संजय साल 1989 में एनएसए से डिप्लोमा करने के बाद दिल्ली आ गए थे। संजय रोहतक के रहने वाले हैं। जब वो दिल्ली आ गए तब उनके पास ट्रेनिंग के लिए भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर और अमित शर्मा आए। इसके बाद संजय की दिल्ली क्रिकेट में ख्याति बनती चली गई। लगभग 20 साल के कॉन्ट्रेक्ट पर संजय दिल्ली क्रिकेट में कोच रहे। अब अपने शानदार प्रदर्शन के लिए इन्हें द्रोणाचार्य अवार्ड दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि ये अवार्ड मिलने की घोषणा के बाद सबसे पहले उन्हें Gautam Gambhir ने ही बधाई दी है।