पाकिस्तान मुख्य न्यानधीश के शपथ में जाएंगे SC के पूर्व जज, कहा- खोसा अच्छे दोस्त हैं मेरे

New Delhi: पाकिस्तान के नवनियुक्त मुख्य न्यायधीश आसिफ सईद खान खोसा 18 जनवरी को शपथ ग्रहण करेंगे। उनके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए भारत के सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मदन बी लोकुर पाकिस्तान जायेगा। आपको बता दें कि 30 दिसंबर को सेवानिवृत्त हुए जस्टिस लोकुर ने कहा कि मैं उन्हें पिछले एक दशक से जानता हूं। उस समय वह लाहौर हाईकोर्ट के जज थे। आसिफ सईद खान एक बहुत ही विद्वान, मुखर और अच्छे इंसान है।

इसके अलावा, जब जस्टिस लोकुर से पूछा गया कि क्या वह इसे एक असाधारण संकेत मानते हैं, क्योंकि दोनों देशो के बीच यानी भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ हाई-प्रोफाइल यात्राएं हो चुकी है। इसके जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि न्याय की कोई सीमा नहीं होती हैं, न्याय किसी इंसान या देश को नहीं जानता हैं। गौरतलब हैं कि यह पहली बार नहीं हैं कि जब जस्टिस लोकुर पाकिस्तान में किसी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे।

Justice madan b lokur

पाकिस्तान के पूर्व जस्टिस तसद्दुक हुसैन जिलानी ने पांच साल पहले यानी 2014 में शपथ ली थी, तब जस्टिस लोकुर पाकिस्तान में ही मौजूद थे। आपको बता दें कि जस्टिस आसिफ सईद खान खोसा उन जजों में शामिल हैं, जिन्हें राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने बर्खास्त कर दिया था। फरवरी 2016 में जस्टिस आसिफ सईद खान खोसा के नेतृत्व वाली तीन जजों की बेंच ने अपना फैसला सुनाया था। अपना फैसला सुनाते हुए कहा था कि मुशर्रफ को पाकिस्तान के संविधान को नीचा दिखाने की वजह से देशद्रोह के आरोप में ट्रायल का सामना करना पड़ेगा।

पूर्व जस्टिस मदन बी. लोकुर बीती 30 दिसंबर को अपने पद से रिटायर हुए हैं। जस्टिस लोकुर अपने कार्यकाल के दौरान नौकरशाही के खिलाफ तीखी टिप्पणी के लिए जाने जाते रहे हैं। पूर्व जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ जिन 4 जजों ने मोर्चा खोला था, उनमें मदन बी. लोकुर का नाम भी शामिल था। अन्य तीन जजों में पूर्व जस्टिस जस्ती चेलामेश्वर, जस्टिस कूरियन जोसेफ और देश के मौजूदा चीफ जस्टिस रंजन गोगोई शामिल थे।