अटल जी ने कभी भी आर्टिकल 370 का समर्थन नहीं किया, बोले केंद्रीय राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह

New Delhi: केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने कश्मीर को लेकर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नजरिए को स्पष्ट किया है। जितेंद्र सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री ‘जम्हूरियत’, ‘इन्सानियत’ और कश्मीरीयत ‘की बात किया करते थे। हमें बार-बार वाजपेयी जी की नीति का पालन न करने का ताना दिया जाता है और साथ ही इससे जुड़े सवाल पूछे जाते हैं।

वाजपेयी जी की पहली पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने यह बयान दिया है। प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री ने इस संदर्भ में सवाल पूछने वालों पर निशान साधा है। उन्होंने कहा कि ये लोग वाजपेयी जी की नीति से कभी वाकिफ ही नहीं हैं। पूर्व प्रधानमंत्री ने कभी-भी जम्मू-कश्मीर के लिए विशेष दर्जे को मंजूरी नहीं दी। उन्होंने हमेशा से इसका विरोध किया।

जम्मू और कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार के हालिया फैसले का विरोध कर रहे घाटी के नेताओं पर जितेंद्र सिंह ने जमकर हमला बोला है। अलगाववादी नेता जो पाकिस्तान का गुणगान करते हैं, वे हमें अनुच्छेद 370 को निरस्त करने पर ताना देते हैं। जम्मू और कश्मीर में 2-3 राजनीतिक पार्टियां चुनाव कराती हैं और 8-10 प्रतिशत मतदान के साथ सांसद-विधायक बन जाते हैं। यह कहीं से भी लोकतंत्र नहीं है।

मंत्री ने कहा कि ईद और स्वतंत्रता दिवस कभी भी घाटी में इतनी शांति से नहीं मनाए जाते थे, जितनी इस साल मनाई गई है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के इस फैसले का लाभ सिर्फ जम्मू-कश्मीर तक ही सीमित नहीं है। हमारे 125 करोड़ भारतीयों में से हर कोई जम्मू और कश्मीर मुद्दे में एक हितधारक है। उन्होंने कहा कि हमें कश्मीर के बारे में बात करने के लिए पाकिस्तान जैसे बाहरी लोगों की आवश्यकता नहीं है।