पूर्व क्रिकेटर और कैबिनेट मिनिस्टर चेतन चौहान कोरोना से हार गये, पीएम बोले- निराश हूं

New Delhi : उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और पूर्व क्रिकेट प्लेयर चेतन चौहान की 16 अगस्त रविवार की शाम 73 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गये। उनको कोरोना हो गया था और लगभग एक महीने से उनका इलाज चल रहा था। उनकी पत्नी और बेटा विनायक चौहान आस्ट्रेलिया में हैं। वे आज किसी भी वक्त इंडिया पहुंचेंगे उसके बाद अंतिम संस्कार होगा। चेतन चौहान गुरुग्राम स्थित मेदान्ता हॉस्पिटल में भर्ती थे और पिछले कुछ दिनों से लाइफ सपोर्ट पर थे। शनिवार को उनके क्रिटिकल होने की खबर आई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई गणमान्य लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। दो बार लोकसभा सांसद रह चुके चेतन चौहान वर्तमान योगी सरकार में सैनिक कल्याण, होमगार्ड, पीआरडी और नागरिक सुरक्षा विभाग संभाल रहे थे। कोरोना के चलते अब तक उत्तर प्रदेश की अन्य कैबिनेट मिनिस्टर कमला रानी वरुण की 2 अगस्त को जान गई थी। कोरोना पॉजिटिव आने के बाद चेतन चौहान को किडनी और ब्लड प्रेशर से जुड़ी दिक्कतें शुरू हो गई थीं। उसके बाद उन्हें मेदांता अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। इसी दौरान उनकी कोरोना रिपोर्ट दो बार निगेटिव आने के बाद तीसरी बार पॉजिटिव आई थी।

भाई पुष्पेंद्र चौहान ने बताया- मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मेरे बड़े भाई के स्वस्थ होने की दुआएं की थी। उनका बेटा विनायक कभी भी आता होगा। उसके बाद अंतिम संस्कार किया जायेगा। विनायक अपनी मां के साथ ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न से गुरुग्राम आ रहे हैं। चेतन चौहान ने टीम इंडिया के लिये 1969 से 1978 के बीच 40 टेस्ट खेले थे। इनमें उन्होंने 31.54 की एवरेज से 2084 रन बनाये। उनका बेस्ट स्कोर 97 रन रहा। चेतन ने 7 वनडे में 153 रन बनाये। चौहान और सुनील गावस्कर की ओपनिंग जोड़ी 1970 के दशक में काफी सफल रही थी। चेतन घरेलू क्रिकेट में दिल्ली और महाराष्ट्र की टीम से खेले थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty nine − 68 =