फिल्म इंंडस्ट्री में सिर्फ उस समय ही नहीं बल्कि आज भी इतनी खूबसूरत और रोमैंटिक जोड़ी दूर दूर तक नजर नहीं आती।

चिंटू-नीतू की स्टोरी लव AajKal नहीं, Forever थी : 47 साल एकसाथ, नोकझोंक भी मिठासभरी

New Delhi : ऋषि कपूर 67 साल की उम्र में आज चल बसे। उनके साथ अंतिम समय तक तक उनकी जीवन संगिनी नीतू कपूर बनीं रहीं। अंतिम समय तक। चाहे अमेरिका हो या मुम्बई, नीतू हमेशा उनका हाथ थामे दिखीं। और आज ऋषि वो हाथ छोड़कर चले गये। ये हाथ उन्होंने 1973 में तब पकड़ा था जब उनकी साथ की गई पहली फिल्म जहरीला इंसान की शूटिंग शुरू हुई थी। और उसके बाद से नीतू और चिंटू बॉलीवुड के सबसे रोमांटिक कपल्स में शुमार किये जाने लगे। लंबे समय से एक-दूसरे का साथ निभाते हुए इन्होंने हर मुश्किल का मिलकर सामना किया। जब से ऋषि कपूर को कैंसर हुआ तब से हर कदम, हर समय दोनों हाथों में हाथ लिये और भी ज्यादा दिखने लगे। नीतू ने दिखाया कि वो चिंटू को कितना प्यार करती हैं। दिलचस्प यह रहा कि टीनेज लव अब जाकर एक-दूसरे के लिये डेडिकेशन का संबल बन गया था। दोनों की लव स्टोरी इतनी रोमांचकारी रही है कि आप बार बार सुनेंगे फिर भी जी नहीं भरेगा।

ऋषि कपूर ने एक टीवी रिएलिटी शो में अपनी लव स्टोरी की चर्चा करते हुये कहा था – 1974 में फिल्म ‘जहरीला इंसान’ की शूटिंग के दौरान मैं नीतू से मिला था और एक ही नजर में मुझे नीतू से प्यार हो गया। उसी दौरान मेरी गर्लफ्रेंड से किसी बात को लेकर मेरी बहस हो गई थी और मैं बहुत दुखी हो गया था। इसके बाद मैंने उसे मनाने की पूरी कोशिश की, तब नीतू ने उसे टेलीग्राम लिखने में मेरी मदद की थी।

ऋषि कपूर ने नीतू से अपने रोमांस के किस्से सुनाते हुये कहा था – वक्त के साथ मैं अपनी गर्लफ्रेंड को भूलने लगा और मुझे फील हुआ कि नीतू ही मेरे लिए परफेक्ट हैं। ‘जहरीला इंसान’ की शूटिंग साथ में पूरी करने के बाद मैं अपने दूसरे प्रोजेक्ट्स के लिए यूरोप चला गया, लेकिन वहां मैं नीतू को मिस कर रहा था। मैंने यूरोप में रह कर नीतू को कई बार टेलीग्राम भेजा और उसमें यही लिखा कि मेरा तुम्हारे बिना दिल नहीं लग रहा। और आखिरकार वापस आकर ऋषि कपूर ने नीतू सिंह से अपने प्यार का इजहार कर ही दिया।

नीतू और ऋषि कपूर ने साथ में कई फिल्में की। ‘रफू चक्कर’, ‘दूसरा आदमी’, ‘कभी-कभी’, ‘अमर अकबर एंथोनी’ जैसी फिल्मों में इस कपल ने पर्दे पर गजब की कैमिस्ट्री दिखाई, जिसे दर्शकों ने भी खूब पसंद किया। नीतू और ऋषि कपूर के प्यार के किस्से पूरी इंडस्ट्री में फेमस होने लगे थे। यह बात भी आम हो गई कि वे एक-दूसरे से शादी करना चाहते हैं। नीतू कपूर ऋषि कपूर के घर भी आने-जाने लगी थीं। इस दौरान नीतू सिंह की यही कोशिश थी कि वह ज्यादातर फिल्में ऋषि कपूर के साथ ही करें। नीतू ऋषि कपूर के साथ अपनी रिलेशनशिप को लेकर सीरियस थीं। यह बात ऋषि कपूर के साथ उनकी पूरी फैमिली भी जानती थी। इसी दौरान एक दिन राज कपूर ने ऋषि से साफ कह दिया था कि अगर वे नीतू को पसंद करते हैं तो उनसे शादी करें। और इस तरह ऋषि कपूर और नीतू सिंह की शादी का रास्ता साफ हो गया।

नीतू सिंह अपने घर की कमाऊ सदस्य थीं। उनकी चिंता ये थी कि शादी के बाद वह अपनी मां को अकेले कैसे छोड़ सकती हैं और इस वजह से उन्हें अपराधबोध महसूस होने लगा। ऋषि कपूर ने नीतू का दर्द समझा और उनकी मां राजी को शादी के बाद साथ में रहने के लिये बुला लिया।  22 जनवरी 1980 को ऋषि कपूर और नीतू सिंह ने धूमधाम से शादी कर ली। इनकी शादी में बॉलीवुड की कई चर्चित हस्तियों ने शिरकत की थी। शादी के समय नीतू सिंह का लहंगा इतना भारी था कि उसे संभालने हुए उन्हें चक्कर आ गया और वह बेहोश हो गई थीं।

अपनी शादी में ऋषि कपूर भी अपने आसपास मौजूद से परेशान हो गए थे और घोड़ी पर चढ़ने से पहले उन्हें चक्कर आ गया था। लेकिन कुछ देर बाद उन्हें होश आ गया। ऋषि कपूर और नीतू सिंह की शादी फिल्म इंडस्ट्री की शाही शादियों में शुमार की जाती है। हालांकि शादी के बाद भी ऋषि कपूर और नीतू सिंह की जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव आये, लेकिन दोनों ने मिलकर इनका सामना किया और एक-दूसरे का साथ निभाया। …और आज 30 अप्रैल 2020 को यह साथ छूट गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + one =