CBI की 6 आरोपियों व अन्य के खिलाफ FIR, माल्या की नकेल कसनेवाले अफसर ही सुशांत केस देखेंगे

New Delhi : सुशांत सिंह राजपूत का केस अब अपनी मुकाम की ओर है। कम से कम आम लोगों को ऐसा एहसास तो हो रहा है कि अब सुशांत और उसके परिजनों के साथ न्याय होगा। देश के लाखों लोगों को यह मामला केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई को सौंपे जाने के आदेश से बहुत तसल्ली मिली। सुकून मिला न्याय मिल जाने का। आज 6 अगस्त को इस तसल्ली को परवाज भी मिल गये जब सीबीआई ने सुशांत प्रकरण में छह आरोपियों समेत अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया।

सीबीआई ने इस प्रकरण की जांच उन अधिकारियों को सौंपी है, जिन्होंने आसमान में उड़ते शराब कारोबारी विजय माल्या को धरती पर ला पटका। सीबीआई की विशेष जांच दल जा वर्तमान में अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले और विजय माल्या बैंक फर्जीवाड़ा केस की जांच कर रही है, वह एक्टर सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच करेगी। सीबीआई ने कहा- भारत सरकार की तरफ से नोटिफिकेशन के बाद सुशांत मामले में सीबीआई केस दर्ज करने की प्रक्रिया में है। हम इसको लेकर बिहार पुलिस के संपर्क में भी हैं। सीबीआई अधिकारियों ने बताया – जल्द ही एफआईआर को एजेंसी की कॉपी वेबसाइट पर अपलोड कर दी जायेगी।
बहरहाल महाराष्ट्र सरकार ने केस को सीबीआई को दिये जाने का विरोध करते हुये दावा किया कि ऐसा बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनाव समेत अन्य राजनीतिक कारणों के चलते किया जा रहा है। बिहार सरकार की तरफ से सीबीआई जांच की मांग के एक दिन बाद केन्द्र सरकार ने बुधवार की शाम को एक नोटिफिकेशन जारी करते हुए केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई से कहा कि वह बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच करे।

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाला से बताया कि प्राथमिकी दर्ज करने से पहले एजेंसी को बिहार पुलिस से कुछ और सूचना की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक नूपुर प्रसाद के नेतृत्व में विशेष जांच दल इसकी जांच करेगा और इसकी निगरानी डीआईजी गगनदीप गंभीर और संयुक्त निदेशक मनोज शशिधर करेंगे। दोनों गुजरात कैडर के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + two =