वित्त मंत्री सीतारमण RBI बोर्ड को आज करेंगी संबोधित, राजकोषीय घाटे को कम करने पर किया जाएगा विचार

New Delhi: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सोमवार को आरबीआई के केंद्रीय निदेशक मंडल को संबोधित करेंगी। बजट के बाद की जाने वाली यह परंपरागत बैठक है। दिल्ली में आयोजित होने वाली यह बैठक काफी महत्वपूर्ण है। इस बैठक में वित्त मंत्री बजट के प्रमुख बिंदुओं पर बातचीत करेंगी। वह आम बजट 2019-20 में राजकोषीय घाटे को कम करने के लिए उठाये गए कदमों पर प्रकाश डालेंगी

देश के वित्तीय क्षेत्र की दिक्कतों को दूर करने के सारे उपाय सरकार ने आम बजट में पेश कर दिए हैं। इन जिम्मेदारियों को पूरा करना अब आरबीआई के हाथों में है। शुक्रवार पांच जुलाई को सदन में निर्मला सीतारमण ने पूर्ण बजट पेश किया था। फरवरी में पेश अंतरिम बजट के मुकाबले इस पूर्ण बजट में अधिक राजस्व मिलने का अनुमान लगाया गया है। इस बजट में 6,000 करोड़ रुपये अधिक राजस्व मिलने का अनुमान है। राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 3.3 प्रतिशत पर सीमित रखने का अनुमान है। अंतरिम बजट में इसे 3.4 फीसदी पर सीमित करने का लक्ष्य था।

केंद्रीय निदेशक मंडल को वित्त मंत्री बजट की अन्य महत्वपूर्ण घोषणाओं से भी परिचित कराएंगी। इस बार बजट में वित्तीय क्षेत्र को लेकर की गई तीन घोषणाओं को आरबीआई को लागू करना है। इनमें सबसे बड़ी घोषणा एनबीएफसी को लेकर है। आरबीआई को एनबीएफसी को ज्यादा अधिकार देने का प्रस्ताव है।

आरबीआई को हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों (एचएफसी) की निगरानी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। साथ ही बैंकिंग के क्षेत्र में कामकाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए नियमों को बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। आरबीआई को अब सरकार के आदेशों पर इन सारे नियमों को लागू करना है। इन घोषणाओं के बाद आरबीआई को अब देश की अर्थव्यवस्था में बड़ी भूमिका निभानी होगी।