अब दुश्मनों से दो-दो हाथ करने को तैयार तेजस, उड्डयन नियामक ने दिया फाइनल ऑपरेशन क्लियरेंस

New delhi.स्वदेश निर्मित भारत की अत्याधुनिक लड़ाकू विमान तेजस अब दुश्मनों से दो-दो हाथ करने को तैयार है, क्योंकि वायुसेना में शामिल करने के लिए सुरक्षा जांच के बाद सैन्य उड्डयन नियामक सेमिलाक की तरफ दिया जाने वाला फाइनल ऑपरेशन क्लियरेंस (FOC) मिल गया है जिसके बाद आधुनिक हथियारों से प्रहार करने में माहिर इस फाइटर जेट को वायु सेना में शामिल करने के लिए मार्ग प्रशस्त हो गया है।

इस अनुमति के बाद अब तेजस हथियारबंद फाइटर जेट के तौर पर एयरफोर्स से जुड़ जाएगा। रक्षा अधिकारियों के अनुसार सेमिलाक के चीफ एग्जीक्यूटिव पी. जयपाल ने इसका सर्टिफिकेट और सेवा के लिए भेजे जाने के दस्तावेज एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ को दिया है। पुलवामा हमले के बाद तेजस एयर ड्रिल में शामिल हुआ था। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत में धनोआ ने कहा कि यह एयरफोर्स के लिए एक अहम पड़ाव है। यह फाईटर प्लेन पहले ही अपनी मारक क्षमता का प्रदर्शन कर चुका है और 16 फरवरी को राजस्थान के पोकरण में सम्पन्न एयरफोर्स की वायुशक्ति ड्रिल में तेजस ने हवा से जमीन और हवा से हवा में मार करने की अपनी क्षमता से सबको परिचित करा दिया था।


आर्मी चीफ बिपिन रावत ने भरी उड़ान
वहीं बेंगलूरु में चल रहे एयर शो के दौरान सेना के चीफ बिपिन रावत ने स्वदेशी लड़ाकू जेट विमान तेजस में पहली बार उड़ान भरी है। एयरो इंडिया शो-2019 के मौके पर इस दो सीटर विमान में उन्होंने पायलट के पीछे की सीट थामी। इसके पहले तेजस ने बुधवार को अलग-अलग तरह के करतब दिखाकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई को श्रद्धांजलि दी थी। इस उड़ान में भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. पीएस राघवन भी बाद में इस विमान में उड़ान भरेंगे।

एयरो इंडिया-2019 के पहले हो चुका है दुर्घटना

इससे पहले एयरो इंडिया-2019 का रोमांच के पहले दो रिहर्सल के दौरान दो विमानों के टकराने से नष्ठ होने एवं पायलट विंग कमांडर साहिल गांधी की मौत की मौत के बाद भारतीय वायुसेना की सूर्य किरण एरोबैटिक्स टीम में उदासी छाई हुई है। अधिकारियों के अनुसार हर बार कार्यक्रम में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेने वाली इंडियन एयर फोर्स की टीम इस बार अपने पंडाल को एयरो इंडिया-2019 के कार्यक्रम स्थल के पीछे लगा रखा है।

दुर्घटना के बाद सूर्य किरण की करतब दिखाने वाले कार्यक्रम हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया है। टीम के हिस्सा नहीं लेगने से हर बार की तरह दिखने वाला रोमांचित करने वाला करतब  इस बार देखने के नहीं मिलेगा।ज्ञात हो कि कर्नाटक के बेंगलुरु में बुधवार से शुरू हो रहे एयर शो के पहले ही मंगलवार को बड़ा हादसा हुआ था यहां के येलहंका एयरपोर्ट पर एयर शो के लिए जारी रिहर्सल के दौरान सूर्य किरण टीम के दो हॉक विमान आपस में टकरा गए थे जिसमें एक पायलट की मौत हो गई है और एक नागरिक भी गम्भीरु रुप से घायल हो गया था। ये दोनों एयरक्राफ्ट रिहर्सल के दौरान उड़ान भर रहे थे और इसी दौरान आसमान में आपस में ही टकरा गए। इस हादसे में विंग कमांडर साहिल गांधी की मौत हो गई थी। वहीं विंग कमांडर वीटी शेल्के और स्क्वार्डन लीडर टीजे सिंह घायल हो गए थे।