Corona का डर : डॉक्टर को बुख़ार, 4 निजी हॉस्पिटल ने भर्ती नहीं किया, इलाज में देरी से डॉ. वेंटिलेटर पर

New Delhi : Maharashtra  के Jalgaawn में तेज़ बुख़ार और सांस लेने संबंधी समस्या के कारण एक डॉक्टर को चार प्राइवेटहॉस्पिटल ने भर्ती करने से मना कर दिया।प्राइवेट हॉस्पिटल भर्ती करने से पहले उनसे स्पष्टीकरण मांगा कि मरीज़ Corona Virus से संक्रमित नहीं है। अब बिना टेस्ट ये कौन देता।

Indian Express के मुताबिक़ कई घंटों के बाद, डॉक्टर को अंततः जलगाँव के सरकारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया।हालांकि, देरी के कारण, वह अब वेंटिलेटर सपोर्ट पर है।जिला स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि COVID ​​-19 से घबराहट औरजानकारी के अभाव ने निजी अस्पतालों और डॉक्टरों में भी भय पैदा कर दिया है, जो कोरोनोवायरस जैसे लक्षणों वाले रोगियों को दूरकर रहे हैं। बीमार डाक्टर के पास तो विदेश यात्रा का कोई इतिहास है, ही उसने किसी ऐसे मरीज के साथ संपर्क करने की सूचना दीजिसकी वजह से Corona की जांच की जाये।

डॉक्टर पिछले सप्ताह ही कोल्हापुर से अपने गृह नगर भुसावल आए थे. बुधवार की रात उन्हें तेज़ बुखार आया और सांस लेने में समस्याहुई. पूरी रात उनका परिवार उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के लिए जद्दोजहद करता रहा.

डाक्टर के चाचा ने कहाहर अस्पताल ने उसे एडमिट करने से मना कर दिया। सब Corona Virus का ही सवाल कर रहे थे। हमने उन्हेंबताया कि उन्होंने विदेश यात्रा नहीं की, लेकिन किसी ने नहीं सुनी।

गुरुवार को सुबह 7 बजे तक बीमार डॉक्टर को सरकारी मेडिकल कॉलेज लाया गया जहां उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया। डॉक्टरों नेपरिवार को उन्हें कहीं और स्थानांतरित करने के लिए कहा क्योंकि उनके पास इलाज की पूरी व्यवस्था नहीं थी।

सोशल वर्कर प्रतिभा शिंदे ने कहाजब हमने जिला कलेक्टर से संपर्क किया। उन्होंने जीएमसी को अस्पताल में भर्ती करने का आदेशदिया।

अस्पताल के डीन डॉ. भास्कर खैरे ने कहा कि इलाज में देरी के कारण पिछले कुछ घंटों में डॉक्टर की हालत बिगड़ गई है। उन्होंने कहाहमने रक्त परीक्षण किया है। चूंकि उनका कोई यात्रा इतिहास नहीं है, इसलिए कोरोनोवायरस परीक्षण की आवश्यकता नहीं है। हमरिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। वह गंभीर हैं और उसे वेंटिलेटर सपोर्ट पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty six + = thirty three