भड़’काऊ भाषण देने पर मुंबई बीजेपी प्रमुख लोढ़ा को चुनाव आयोग ने थमाया कारण बताओ नोटिस

New Delhi: महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर से विधानसभा चुनाव हैं। सभी पार्टियां अपना प्रचार- प्रसार करने में लगी हुई हैं। सबके अपने- अपने मुद्दे हैं जिन पर वोटरों को लुभाने की कोशिश की जा रही है। वोटरों को रिझाने के चक्कर में नेता लोग बढ़- चढ़कर बयानबाजी कर रहे हैं। इसी कड़ी में मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए 1993 में हुए ब’म ध’माकों को अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र से जोड़ दिया। इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

खबर के मुताबिक, लोढ़ा मुंबई में 16 अक्टूबर को मंबई की मुंबादेवी विधानसभा सीट से शिवसेना उम्मीदवार पंडुरांग सकपाल के लिए चुनावी रैली कर रहे थे। इस दौरान लोढ़ा ने ‘भ’ड़काऊ भाषण’ दिया था। एक ऑडियो क्लिप में वो कह रहे हैं, 1992 के दं’गों को याद कीजिए, जब ध’माके हुए और गो’लियां चलीं। वो यहां से केवल 5 किलोमीटर दूर स्थित गलियों से चली थीं। लोढ़ा ने कांग्रेस उम्मीदवार और निवर्तमान विधायक अमीन पटेल पर नि’शाना सा’धते हुए कहा वोटरों के एक वर्ग के बारे में भी टिप्पणी की। उन्होंने दावा किया कि मौजूदा विधायक अमीन पटेल एक विशेष समुदाय के हितों को देखते हैं। उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि उनके वोट के साथ जो व्यक्ति चुनकर आएगा वो आने वाले समय में आपका क्या ध्यान रखेगा?

लोढ़ा ने आगे कहा, ”यहां पुरानी इमारतों के ढ’हने के बाद निवासियों को मानखुर्द और धारावी में ट्रांसफर कर दिया गया। ऐसा लगता है कि जैसे इन क्षेत्रों को एक विशेष समुदाय के लिए आवंटित कर दिया गया है। इस वजह से हिंदू- मराठी भाइयों को दूर- दराज के इलाकों में स्थित शिविर में जाना पड़ता है।”

इस पर आम आदमी पार्टी ने कहा कि वह इस टिप्पणी को आचार संहिता के नियमों का गं’भीर उल्लं’घन बताते हुए चुनाव आयोग से औपचारिक शि’कायत दर्ज कराएगी।

बीजेपी- शिवसेना सरकार में महाराष्ट्र में 90 फीसदी बढ़ी मॉ’ब लिं’चिंग की घ’टनाएं: ओवैसी