लद्दाख में घुसपैठ की 1 साल से तैयारी कर रहा था ड्रैगन : अब बोला चीन- शांति-स्थिरता पर हम सहमत

New Delhi : केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने एक वीडियो शेयर किया है जिसमें भारतीय सेना युद्धभ्यास कर रही है। यह चीन की भाषा में चीन को जवाब है। चीन ने 7 जून को युद्धाभ्यास का वीडियो जारी किया था। और एक तरह से भारत को धमकाने की कोशिश की थी। आज भारत के केंद्रीय राज्य मंत्री ने यह वीडियो जारी कर चीन को ज्ञान दिया। डिफेन्डर्स ऑफ लद्दाख के टाइटल नेम से जारी इस वीडियो को देखकर किसी भी भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जायेगा। इसमें थल सेना के प्रशिक्षण के साथ-साथ वायुसेना का अभ्यास भी दिखाया गया है। टैंकरों और नाइट विजन को भी चेक किया गया है कि सब सही निशाने पर हैं या नहीं।

 

इधर आज चीन ने फिर अपने रुख में नर्मी दिखाई है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुवा चुनिंग ने कहा है – चीन और भारत ने सीमा विवाद पर कमांडर-स्तरीय वार्ता की, जिसमें दोनों पक्ष स्थिति को आगे बढ़ाने और एक साथ सीमा पर शांति और स्थिरता बनाये रखने के लिए आम सहमति पर पहुंचे हैं। इससे पहले चीन के सरकारी अखबार ने लिखा – भारत और चीन के अफसरों की आपसी बातचीत के बाद माहौल शांत है लेकिन इस शांति को बरकरार रखने के लिये कुछ ठोस पहल करने और ठोस पहल पर निर्णय लेने का वक्त आ गया है।
वैसे लद्दाख में भारतीय सेना की जोरदार तैयारियों से घबराए चीनी ड्रैगन ने करीब एक साल पहले से ही ‘कारगिल’ जैसी घुसपैठ की तैयारी शुरू कर दी थी। ताजा गतिरोध के बीच सैटलाइट से मिली तस्‍वीरों में खुलासा हुआ है कि चीनी सेना ने पिछले साल के मध्‍य में पैंगोंग शो झील से 100 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में अपनी मोर्चाबंदी तेज कर दी थी। इसके तहत सैन्‍य ठिकाने का आधुनिकरण शुरू कर दिया गया था। इसके बाद कोरोना महासंकट में भारत को फंसा देख चीन ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर दी।

 

इसके अलावा बड़ी मात्रा में सैन्‍य साजोसामान को इकट्ठा किया गया। यही नहीं चीन ने पैंगोंग शो झील से मात्र 180 किलोमीटर दूर स्थित नागरी इलाके में बड़ा हवाई ठिकाना तैयार कर लिया था। इसके अलावा नागरी में बहुत से ऐसे सैन्‍य वाहन जुटा लिए थे जिससे बहुत तेजी से सैनिकों को भारतीय सीमा तक पहुंचाया जा सके। इसी एयरबेस पर चीनी ड्रैगन ने उड़ान भरने के अनुकूल लड़ाकू विमान जे-11 और जे 16एस को भी ऑपरेट करना शुरू कर दिया है। ताजा तस्वीरों को ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनॉलिस्ट Detresfa ने जारी किया है।
इससे पहले रविवार को जब भारतीय विदेश विभाग ने सीमा पार हुई बातचीत के बाद शांति बहाली की बात की थी तो चीन ने आर्मी के युद्धाभ्यास का वीडियो जारी किया था। भारत पर दबाव बनाने के लिये इस युद्धाभ्यास का प्रसारण अपने टीवी चैनल पर भी कर रहा है। यही नहीं चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा है – भारत से तनाव की स्थिति को देखते हुये युद्धाभ्यास शुरू किया गया है।

चीन ने जरूरी जमीनी युद्धाभ्यास के साथ ही एयरफोर्स की ताकत को भी परखना शुरू किया है। यही नहीं चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स भारत के अमेरिका के G-7 में शामिल किये जाने के अमेरिका के फैसले पर फिर से तंज किया है। लिखा है – भारत के रणनीतिक और नीति-निर्धारक मंडल एक छोटे समूह के हाथों में है जो चीन के प्रति नकारात्मक विचारों से भरे परे हैं। चीन के उदय और बीजिंग और नई दिल्ली के बीच बढ़ती ताकत के अंतर के साथ, चीन के प्रति भारत की चिंताएं भी बढ़ गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ eighty = 87