दहेज में मिल रही थी 6 लाख की कार.. दूल्हे ने ठुकराई, बोला- मेरा जमीर जिंदा है, साइकिल से चलूंगा

NEW DELHI: कई बार दहेज को लेकर रिश्ते बनते-बनते टूट जाते हैं, लेकिन एक युवा ने दहेज नहीं लेकर समाज में मिसाल पेश की है। युवक को स्विफ्ट कार, एसी, कूलर, गोदरेज, पलंग सहित करीब 6 लाख का दहेज मिलने वाला था, लेकिन पिपल्या गांव के युवा ने शादी से 15 दिन पहले ही दहेज लेने से इंकार कर दिया। युवक राजपालसिंह पिता हेमेंद्रसिंह पंवार ने बताया कि 5 साल पहले उनकी सगाई दिव्या बिसनखेड़ा (इंदौर) से हुई थी।

राजपाल ने बताया कि शादी से 15 दिन पहले उन्हें बताया गया कि उनके ससुर अरुणसिंह चौहान जो एक किसान हैं वे दहेज के रूप में कार और करीब 6 लाख का सामान देना चाहते हैं, लेकिन राजपाल ने इंकार कर दिया। राजपाल ने कहा कि वे दिव्या को एक जोड़ी कपड़ों में ही अपने घर लेकर आए। मैं साइकिल में चलूंगा लेकिन दहेज नहीं लूंगा। राजपाल के इस कदम की लोगों के साथ समाज ने भी सरहाना की।

शादी से 15 दिन पहले ससुराल पक्ष ने मेरे सामने कार व गृहस्थी का 6 लाख रुपए का सामान देने के बात कही थी। जिस पर मैंने देहज लेने से इंकार कर दिया। घर वालों ने भी मेरे फैसले का साथ दिया। ससुर का कहना था दिव्या घर में सबसे बड़ी बेटी है, घर में पहली शादी थी, इसलिए बड़ी धूमधाम से बेटी की शादी करना चाहते हैं। अपनी खुशी से वे बेटी को यह सब देना चाहते थे। लेकिन समाज में संदेश देने के लिए मैंने दहेज का यह सामान लेने से इंकार कर दिया। राजपाल ने बताया कि बकायदा इसके लिए उन्होंने अखबार में भी दहेज नहीं लेने का संदेश छपाया था। समाज में सुधार आए इसलिए यह कदम उठाया। पत्नी भी उनके इस कदम से खुश हुई। राजपाल के इस कदम के लिए समाज में उनका सम्मान भी किया गया।

मैं राजपालसिंह पंवार दहेज प्रथा को अभिषाप मानता हूं। अत: शपथ पूर्वक यह वचन देता हूं कि दहेज नहीं लूंगा, किसी भी माध्यम से नहीं। इसलिए सभी आदरणीयों से यह प्रार्थना है कि इस दहेज प्रथा को पूर्ण रूप से बंद करें।

भगवान की कृपा से मेरे पास सब कुछ है। दहेज एक कुप्रथा है। इससे कई घर टूट जाते हैं। समाज में संदेश देने के लिए यह फैसला लिया। पत्नी ने इस फैसला का सम्मान किया और खुशी जाहिर की। लोगों को दहेज नहीं लेना चाहिए।