डॉगी पुष्पा का जनाजा था बड़ा झूमकर निकला- तेरहवीं का कार्ड बंटा, छककर दावत उड़ाई, दान भी

New Delhi : उत्तर प्रदेश के मेरठ के बाड़म गाँव में एक किसान ने एक अनोखी तेरहवीं दावत का आयोजन किया। दरअसल, यह किसी इंसान की तेरहवीं नहीं थी। यह दावत थी डॉगी पुष्पा की। पुष्पा के मालिक किसान ने शुक्रवार को पूरे गाँव को दावत दी। ग्रामीणों को तेरहवीं का कार्ड भी वितरित किया गया। किसान योगेश त्यागी को अपनी डॉगी पुष्पा से इतना प्यार था कि उन्होंने श्मशान में हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार ढोल-बाजे में उनका अंतिम संस्कार किया। ‘पुष्पा’ की अस्थि को चुनकर ब्रजघाट में विसर्जित किया गया। यह भोज पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।

डॉगी पुष्पा रीति रिवाज से क्रियाकर्म करते परिवारीजन

पूरा मामला बाड़म गांव का है। यहां रहने वाले योगेश त्यागी पेशे से किसान हैं। योगेश की पालतू डॉगी पुष्पा 12 अक्टूबर को दुनिया छोड़ गई।पुष्पा 6 साल से इस घर में रह रही थी। परिवार के एक सदस्य की तरह बन गई। इसलिए, योगेश ने पुष्पा के जाने के बाद अंतिम संस्कार किसी अन्य परिवार के सदस्य की तरह किया। योगेश और क्षेत्र के अन्य ग्रामीणों ने ड्रम के साथ ‘पुष्पा’ की ‘यात्रा’ निकाली।
योगेश के परिवार ने इस दुख में शामिल ग्रामीणों को धन्यवाद देने के लिए एक अनोखा तरीका अपनाया। योगेश ने ‘पुष्पा’ की तेरहवीं के कार्ड छपवाए और पूरे गाँव में वितरित किए। शुक्रवार को ‘पुष्पा’ की तेरहवीं पर, सुबह योगेश के घर में एक शांति बलिदान का आयोजन किया गया। इसमें परिवार के सदस्यों सहित गाँव के अन्य सदस्यों ने भी ’पुष्पा की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। शांति यज्ञ के बाद, हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार, 13 ब्राह्मणों को दक्षिणा देकर ब्रह्म भोज दिया गया।
इस अनूठी तेरहवीं दावत में सैकड़ों ग्रामीणों ने भाग लिया। योगेश और उनके परिवार ने दावत के लिए आलू की सब्जी, पूरियां, खीर और रायता की व्यवस्था की थी। इस मामले में, योगेश त्यागी कहते हैं कि चाहे इंसान हो या जानवर, किसी के प्रति प्यार दिखाने का कोई पैमाना नहीं है। उन्होंने अपने पुष्पा की हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अनुष्ठान करके अन्य सभी महत्वपूर्ण अनुष्ठान किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventy nine − = seventy seven