आर्टिकल 370 के हटने पर DMK ने बुलाई बैठक, शनिवार को कश्मीर से जुड़े मुद्दों पर होगी चर्चा

New Delhi: कश्मीर में आर्टिकल 370 के खत्म होने पर तमिलनाडु में सियासत गरमाई हुई है। शनिवार को विपक्ष की पार्टी द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) ने कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है। पार्टी की इस बैठक में संविधान के आर्टिकल 370 को खत्म करने और जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी।

द्रमुक पार्टी जो कि राज्य में लंबे समय से सत्ता पर काबिज रहकर एकाधिकार कायम किया था, उसका इस तरह से आर्टिकल 370 के खत्म होने का वि’रोध करना हैरान करता है। पार्टी अध्यक्ष और विपक्ष के नेता एम के स्टालिन ने इसे अ’संवैधानिक करार दिया है। द्रमुक सांसदों ने संसद में प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया था।

विशेष राज्य के दर्जे को हटाने का वि’रोध कर रही इस पार्टी की यह बैठक काफी महत्वपूर्ण बताई जा रही है। द्रमुक ने प्रेस रिलीज कर इस बैठक की सूचना दी है जो कि चेन्नई में पार्टी मुख्यालय में आयोिजत होगा। अन्ना आर्यलयम में होने वाली इस बैठक की अध्यक्षता स्टालिन करेंगे।

स्टालिन ने आर्टिकल 370 को हटाना भारतीय संघवाद के इतिहास में एक काला दिन बताया है। स्टालिन ने राष्ट्रपति से आग्रह किया था कि वे इस स्थिति का सामना न करें। साथ ही उन्होंने अनुरोध करते हुए कहा था कि जम्मू और कश्मीर में लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार के बनने तक कोई और कदम न उठाएं। द्रमुक अध्यक्ष ने कहा कि उनकी यह पार्टी अपने कश्मीरी बाइयों और बहनों के साथ खड़ा है।

जम्मू और कश्मीर से आर्टिकल 370 के खत्म करने के केंद्र सरकार के फैसले ने राजनीतिक तू’फान मचा दिया है। संसद में जहां इसे भारी संख्या में समर्थन मिला है तो इसके खिलाफ भी आवाज गूंज रही है।