बेंगलुरु गए दिग्विजय सिंह हिरासत में, पुलिस थाने ले गई तो बोले- मैं अब भूख हड़ताल करूंगा

New Delhi : कांग्रेस के सीनियर पालटिशियन Digvijay Singh बेंगलुरु के Ramda Hotel के बाहर धरने पर बैठ गए हैं। वह आजसुबहसुबह ही बेंगलुरु पहुंचे। कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष DK Shivkumar ने उनकी अगवानी की। दोनों नेता रामदा होटल गए, लेकिनपुलिस ने उन्हें होटल के अंदर जाने की अनुमति नहीं दी। Digvijay इससे नाराज होकर बाहर ही धरने पर बैठ गए। अभी मध्य प्रदेश के22 कांग्रेसी विधायक रामदा होटल में ठहरे हुए हैं।

कांग्रेस से बागी हुए सिंधिया गुट के 22 विधायक 10 दिन से बेंगलुरु में हैं। बुधवार सुबह पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह कांग्रेस नेताओं केसाथ बेंगलुरु पहुंच गए। लेकिन कर्नाटक पुलिस ने उन्हें रमादा होटल के बाहर ही रोक दिया। इसके बाद सभी कांग्रेस नेता सड़क पर धरनेपर बैठ गए, बाद में पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। दिग्विजय ने कहा है कि अब वे थाने में भूख हड़ताल करेंगे।

दिग्विजय सिंह ने कहापुलिस हमें विधायकों से मिलने नहीं दे रही है। मैं मध्य प्रदेश का राज्यसभा उम्मीदवार हूं। 26 तारीख कोराज्यसभा चुनाव के लिए विधानसभा में वोटिंग होनी है। हमारे विधायकों को यहां होटल में बंधक बनाकर रखा गया है। वे हमसे बातकरना चाहते हैं, लेकिन उनके मोबाइल छीन लिए गए। मेरे पास हाथ में ना बम है, ना पिस्तौल है और ना हथियार है। फिर भी पुलिस मुझेक्यों रोक रही है।हिरासत में लिए जाने के बाद उन्होंने कहाहमें उम्मीद है कि विधायक लौटेंगे। 5 विधायकों से मेरी बात हुई तो उन्होंनेबंधक होने की जानकारी दी।

दरअसल, मध्य प्रदेश की Kamalnath सरकार पर आए खतरे को लेकर राज्य में सियासी घमासान चरम पर है। राज्य की मौजूदाकांग्रेस सरकार विधानसभा में बहुमत परीक्षण के लिए राज्यपाल लालजी टंडन की ओर से तय 16 तारीख की मियाद को कोरोनावायरस के बहाने नजरअंदाज कर दिया। अब मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच चुका है जिस पर आज साढ़े दस बजे सुनवाई शुरू होनी है।

ध्यान रहे कि कांग्रेस के 21 विधायकों की बगावत के बाद मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार अल्पमत में गई है। बेंगलुरु के रामदाहोटल में ठहरे इन विधायकों में कुछ ने वीडियो मेसेज जारी कर कांग्रेस का साथ छोड़ने का ऐलान किया है। इस बीच विधानसभा अध्यक्षनर्मदा प्रसाद प्रजापति और राज्यपाल लालजी टंडन के बीच लेटर वॉर भी छिड़ गया है। पहले स्पीकर ने गवर्नर को चिट्ठी लिखकर इनविधायकों की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिरी की तो जवाबी में गवर्नर ने तंज भरा पत्र लिख दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− two = six