पूर्व भारतीय कप्तान बाेलीं- अभी धोनी के संन्यास की बात ना करो.. देश को उनकी जरूरत है

NEW DELHI: न्यूजीलैंड के खिलाफ पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 50 रनों की पारी खेलकर एक बार फिर से दिखा गया, कि आखिर क्यों उनको विश्व का सबसे बढ़िया बल्लेबाज माना जाता है। किवी टीम के वि’रुद्ध भले ही एमएस धोनी टीम इंडिया को मैच ना जीता सके हो, लेकिन नंबर 7 पर इतने द’बाव भरे मैच में जिस प्रकार से एमएस धोनी ने खेल दिखाया वह काबिले तारीफ रहा।

महेंद्र सिंह धोनी जब तक क्रीज पर बने हुए थे, तब तक भारतीय टीम के फाइनल में जाने की उम्मीद जी’वित थी। 48.3 ओवर में मार्टिन गुप्टिल ने अपनी एक डायरेक्ट हि’ट से ना सिर्फ एमएस धोनी को रन आउट किया, बल्कि देश के विश्व कप जीतने के सपने को भी च’कनाचूर कर दिया।

टीम इंडिया की हार के बाद पूर्व भारतीय महिला कप्तान और COA की मेंबर डायना इडुल्जी का बयान सामने आया। पीटीआई से खास बातचीत के दौरान डायना इडुल्जी ने अपने बयान में कहा- टीम ने बहुत अच्छा खेल दिखाया। यह नि’राशाजनक रहा कि यह मैच दूसरे दिन तक गया। शुरूआती झटकों ने भारतीय टीम को मैच से पूरी तरह से बाहर कर दिया था। मगर जडेजा और धोनी ने मैच में टीम की शानदार वापसी कराई। मैं जडेजा और धोनी की पारी को सलाम करती हो, जिस प्रकार से वह खेले वह काबिले तारीफ रहा।

डायना इडुल्जी आगे अपने बयान में यह बात साफतौर पर कही कि महेंद्र सिंह धोनी के अंदर अभी भी बहुत सी क्रिकेट बची हुई है। धोनी के संन्यास की खबर पर डायना इडुल्जी ने कहा,जिस प्रकार से महेंद्र सिंह धोनी ने पूरे टूर्नामेंट में खेल दिखाया मैं उसकी प्रसंशा करती हूँ। संन्यास के बारे में फैसला करना उनका निजी निर्णय है। अपने संन्यास के बारे में सिर्फ वही फैसला ले सकते है। मेरे हिसाब से उनके अंदर अभी बहुत सी क्रिकेट बाकि है, उनके संन्यास की बात ना करें। टीम के युवा खिलाड़ियों को उनके मार्गदर्शन की जरूरत है।