डेंगू, लीवर-किडनी सहित 12 बीमारियों को खत्म करता है ये पत्ता..खाने का सही तरीका पता होना चाहिए

New Delhi :  आज हम आपको एक ऐसे पत्ते के बारे में बता रहे हैं जो सबसे बड़ी देसी दवाई कहा जाता है। डेंगू, लीवर और कई बीमारियों को ये खत्म करता है। गिलोय के ये पत्ते बड़े ही लाभकारी हैं। आज की सबसे बड़ी समस्या अनिद्रा है।

तो गिलोय के फल की जड़ों को सुखाकर उनका काढ़ा बनाकर रोज रात गुड के साथ सेवन करे। इससे आपको रात के समय बहुत जल्दी और अच्छी नींद आएगी। और इसके अलावा आपका पेट भी साफ रहेगा। गिलोय फल के सेवन से त्वचा की बीमारियां जैसे खाज, खुजली आदि से छुटकारा मिलेगा। गिलोय की पत्तियों को पीसकर उनका लेप बना लो। और खुजली वाली जगह पर लगाकर रखने से खुजली की समस्या से बहुत जल्दी फायदा मिलेगा। और हमेशा के लिए खुजली दूर हो जाएगी।

अगर आप को किडनी की समस्या है तो गिलोय की सब्जी बनाकर खाओ। इस से किडनी साफ होती है। और किडनी से जुड़ी बीमारियां खत्म होती है। गिलोय को ज्वरनाशक भी कहा जाता है। अगर कोई व्यक्ति काफी दिनों से किसी भी तरह के बुखार से पीड़ित है और काफी दवाएं लेने के बाद भी बुखार में कोई आराम नहीं मिल रहा हो तो ऐसे व्यक्ति को रोजाना गिलोय का सेवन करना चाहिए।

इसके साथ ही अगर किसी को डेंगू बुखार आ रहा हो तो उसके लिए मरीज को डेंगू की संशमनी वटी (गिलोय घनवटी) दवा का सेवन कराया जाए। तो बुखार में आराम मिलता है। संशमनी वटी दवा डेंगू बुखार की आयुर्वेद में सबसे अच्छी दवा मानी जाती है। आंखों की रोशनी बढ़ाने में कारगर है। जिनकी आंखों की रोशनी कम हो रही हो, उन्हें गिलोय के रस को आंवले के रस के साथ देने से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है और आंख से संबंधित रोग भी दूर होते हैं। गिलोय एक शामक औषधि है, जिसका ठीक तरह से प्रयोग शरीर में पैदा होने वाली वात, पित्त और कफ से होने वाली बीमारियों से छुटकारा दिला सकता है।

गिलोय के रस का नियमित रूप से सेवन करने से पाचन तंत्र ठीक रहता है। हमारा पाचन तंत्र ठीक रहे, इसके लिए आधा ग्राम गिलोय पाउडर को आंवले के चूर्ण के साथ नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। गिलोय शरीर में खून के प्लेटलेट्स की गिनती को बढ़ाती है। इस पोस्ट को शेयर करना न भूले।

The post डेंगू, लीवर-किडनी सहित 12 बीमारियों को खत्म करता है ये पत्ता..खाने का सही तरीका पता होना चाहिए appeared first on Live Bavaal.