नोटबंदी की वजह से तीन वर्ष में देश की जीडीपी को लगभग 5% का नुकसान हुआ : पी चिदंबरम

New Delhi: नोटबंदी के तीसरी वर्षगांठ पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भाजपा पर निशाना साधा है। पी चिदंबरम ने कहा कि,’आज कुख्यात नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ है। इसकी वजह से पिछले तीन वर्षों में देश की GDP को लगभग 5% नुकसान हुआ है। GDP का 5% कई हजार लाख करोड़ रुपये के बराबर होता है। क्या देश को उस राशि के लिए भाजपा को बिल भेजना चाहिए?

आपको मालूम हो कि 8 नवम्बर 2016 को पांच सौ और हज़ार के नोट को चलन से बाहर कर दिया गया था। विमुद्रीकरण का आज तीसरा साल है। नोटबंदी के समय पीएम मोदी द्वारा यह कहा गया था कि इससे कालाधन बाहर आएगा। नोटबंदी के समय पीएम मोदी ने एक भाषण दिया था जिसमें वह लोगों को यह विश्वास दिला रहे थे कि पचास दिन में सब कुछ बेहतर हो जाएगा।

नोटबंदी के बाद पीएम मोदी का भाषण
मैंने सिर्फ देश से पचास दिन मांगे हैं। 30 दिसंबर तक मुझे मौका दीजिए भाइयों-बहनों, अगर 30 दिसंबर के बाद कोई मेरी कमी रह जाए , कोई मेरी गलती निकल जाए , कोई मेरा गलत इरादा निकल जाए, आप जिस चौराहे में मुझे खड़ा करेंगे , मैं खड़ा होकर के देश जो सजा देगा वो सजा भुगतने के लिए तैयार रहूँगा। आठ नवंबर, 2016 को रात आठ बजे नोटबंदी की घोषणा करके 500 और 1000 के नोट के चलन को रोकने के ठीक पांच दिन बाद वे गोआ में एक एयरपोर्ट के शिलान्यास पर नोटबंदी के बारे में बोल रहे थे।

रिज़र्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक़ पांच सौ और हज़ार के 99.3 फ़ीसदी नोट बैंकों में लौट आए। नोटबंदी से देश की आर्थिक विकास दर की गति पर असर पड़ा है, 2015-1016 के दौरान जीडीपी की ग्रोथ रेट 8.01 फ़ीसदी के आसपास थी, जो 2016-2017 के दौरान 7.11 फ़ीसदी रह गई और इसके बाद जीडीपी की ग्रोथ रेट 6.1 फ़ीसदी पर आ गई। उसके बाद जीडीपी 5 पर आ गई।