12 नवंबर को दिल्ली-UP और बिहार सहित उत्तर भारत पर पड़ेगी मौसम की मार…पहले से रहें तैयार

New Delhi : लगातार गिरते प्रदूषण के स्तर को तो कोई रोक नहीं पाया साथ में दीपावली की आतिशबाजी ने आग में घी का काम कर ही दिया। उत्तर भारत में दीपावली का पर्व लक्ष्मी पूजन के बाद आतिशबाजी चलाने के साथ मनाया जाता है।

ग्रीन पटाखों की परिभाषा को न तो उच्चतम न्यायालय ढंग से समझा पाया और न ही राज्यों की सरकारों ने इसको प्रचारित करने की पहल की। पटाखों पर लगने वाले प्रतिबंध की घोषणा ने इस बार पटाखों के व्यापारियों को भी भविष्य के लिए सचेत कर दिया था जिससे हर साल महंगे होती जा रही आतिशबाजी के दाम भी इस साल बेहद सुलभ रहे।

मध्यम वर्ग बीते कई वर्षों से महंगी आतिशबाजी से परहेज करता रहा हे लेकिन इस बार बाजारों में आतिशबाजी के रेट काफी गिरे हुए थे क्योंकि भविष्य को देखते हुए कोई भी व्यापारी अपने माल को बचाकर नहीं रखना चाहता है। उच्चतम न्यायालय के सख्त आदेश का नतीजा यह रहा कि बीते वर्ष के मुकाबले इस बार सस्ती दरों पर सुलभ आतिशबाजी ज्यादा बिकी और ज्यादा चली।

दीपावली त्यौहार के मनाए जाने के चंद घंटों के बाद की सैटेलाइट तस्वीरों ने स्पष्ट कर दिया है कि भयानक धुंध पूरे उत्तर भारत को अपनी गिरफ्त में ले चुकी है और जिस प्रकार से मौसम के साथ तापमान में तेज गिरावट शुरू हो चुकी है, अब ये धुंध आकाश में जमती जाएगी।
मौसम विभाग के अनुसार, 12 नवम्बर तक स्मोग का कहर अपने पूरे शबाव के साथ पूरे उत्तर भारत को ढक सकता है।

The post 12 नवंबर को दिल्ली-UP और बिहार सहित उत्तर भारत पर पड़ेगी मौसम की मार…पहले से रहें तैयार appeared first on Live Bavaal.