रक्षा मंत्री बोले- सोनू सूद की प्रशंसा करनी चाहिये तो महाराष्ट्र की सरकार उन्हें परेशान कर रही है

New Delhi : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने महाराष्ट्र जनसंवाद रैली के दौरान कोरोना महामारी के बहाने शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन सरकार पर जमकर तंज कसा। उन्होंने गठबंधन तोड़ने को लेकर शिवसेना को खास तौर पर निशाने पर लिया। उन्होंने कहा – कोरोना से महाराष्ट्र के हालात देखें तो लगता है कि राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। महाराष्ट्र की सरकार तीन दलों की सरकार है। लगता है सरकार के नाम पर सर्कस हो रहा है। राजनाथ सिंह बोले- जिनकी प्रशंसा की जानी चाहिये उनको परेशान किया जा रहा है। अभिनेता सोनू सूद इतना प्रशंसनीय कार्य कर रहे हैं लेकिन प्रशंसा करने की बजाय महाराष्ट्र सरकार उनकी समाज सेवा के लिये आलोचना कर रही है।

 

राजनाथ सिंह ने वीडियोकॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से महाराष्ट्र के पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा – कोरोना को लेकर जिस प्रकार के हालात महाराष्ट्र में पैदा हुए हैं, वो एक गंभीर चिंता का विषय है। महाराष्ट्र में पैदा हुई चुनौती से निपटने के लिये जितना सहयोग हो सकता है वो सहयोग मोदी सरकार कर रही है।
उन्होंने कहा – मुंबई के अस्पतालों को हम टीवी पर देखते हैं, कुछ ऐसे अस्पताल देखने को मिले जहां शव पड़ा हुआ है और उसके पास कोरोना मरीज पड़ा हुआ है। क्या वहां सरकार नाम की चीज नहीं है? सरकार अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती है।
इधर विपक्षी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने सोमवार को शिवसेना पर जमकर निशाना साधा। देवेंद्र फडनवीस ने कहा – शिवसेना दृढ़ता से मानती है कि सोनू सूद भाजपा से है। इससे मुझे खुशी हुई। क्योंकि दूसरी पार्टियों को पता है कि अच्छे काम करने वाले लोग भाजपा में हैं।
उन्होंने शिवसेना पर तज कसते हुये कहा – जो कोई अच्छा काम करता है, उसकी तारीफ की जानी चाहिए। शिवसेना सोनू सूद के परोपकार पर सवालिया निशान लगाकर उनके साथ अन्याय कर रही है। सोनू सूद ने तो साहस से काम लिया है। उन्होंने दिखा दिया कि समाज सेवा, मानव सेवा क्या है और कैसे की जाती है।

 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा – अगर शिवसेना कहती है कि सोनू सूद भाजपा के हैं, तो हम खुश हैं। किसी भी स्थिति में सोनू सूद के साथ गलत व्यवहार नहीं किया जाना चाहिये। उन्होंने अपने साहस के बल पर बड़ा काम किया। इसकी सराहना की जानी चाहिए। जब हमारी सरकार राज्य में जल-समृद्ध शिवहर पर काम कर रही थी, तब ‘नाम’ फाउंडेशन और आमिर खान की पाणि फाउंडेशन भी समानांतर काम कर रहे थे। हमने तब ईर्ष्या नहीं की। इसके बजाय, हमने उन्हें और अधिक मदद करने के तरीकों की तलाश की। क्योंकि वे सरकार की मदद कर रहे थे। इसलिए, सोनू सूद के काम का स्वागत किया जाना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

forty four − forty one =