स्टूडेंट फेस्ट में ख़ौफ़नाक मंजर : देर रात गुंडे घुसे, लड़कियों से बदतमीज़ी, मास्टरबैट करने लगे

New Delhi : दिल्ली के गार्गी कॉलेज के फेस्ट में देर रात आसपास के मिडिल एज के मनचले गुंडे घुस आये और लड़कियों के साथअश्लील हरकतें करने लगें।  6 फ़रवरी की शाम की यह घटना  है। लड़कियाँ ज़ुबान नौटियाल की परफ़ॉर्मन्स देखने आईं थीं। गुंडेलड़कियों के साथ बदतमीज़ी करने लगे और उनके सामने ही मास्टरबैट तक किया। लेकिन हैरानी इस बात की है कि लड़कियों कीशिकायत के बावजूद वहाँ मौजूद पुलिस और गार्डों ने कुछ नहीं किया। यही नहीं कॉलेज प्रशासन ने भी चुप्पी साध ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ गार्गी कॉलेज का एनुअल फेस्ट ही लड़कियों के लिए खौफनाक बन गया। कैंपस में बाहर सेलोग गेट फांदकर अंदर घुसे, कई मिडल एज लोग हैरस कर रहे थे। कुछ ने तो मास्टरबैट तक किया। टूडेंट्स का कहना है कि फेस्ट में 3 बजे के बाद भीड़ बढ़ती चली गई और कई ऐसे लोग अंदर घुसे, जो बस लड़कियों को छेड़ने और परेशान करने के मकसद से घुसे थे।

एक स्टूडेंट बताती हैं, मैं और मेरी दोस्त प्रिंसिपल के पास गईं और मदद के लिए कहा। मगर उन्होंने कहा, इसी वजह से मैं फेस्टऑर्गनाइज करना पसंद नहीं करती। तुम्हीं लोगों को फेस्ट चाहिए होते हैं। हमने कहा, ऐसा नहीं है मैम! तो उन्होंने कहा, तो तुम आएक्यों? गो बैक! मैं अपने लेवल पर इस मामले को देख रही हूं। मगर प्रिंसिपल डॉ प्रोमिला कुमार ने इससे साफ इनकार कर कहा है किउन्हें और उनकी फैकल्टी को इस मामले में कोई शिकायत नहीं मिली हैं। उन्होंने कहा, वे सोमवार को स्टूडेंट्स से खुद बात करेंगी।

स्टूडेंट्स का आरोप है कि इस प्रोग्राम के लिए पास मिले थे, मगर कई लोग बिना पास के बेधड़क अंदर आए। 4 से 6 फरवरी तक यहफेस्ट लड़कियों के गार्गी कॉलेज में था। कुछ स्टूडेंट्स का यह भी कहना है कि सिर्फ आखिरी दिन ही नहीं, पहले दिन से ही मिसमैनेजमेंटनजर आया। 2019 में भी मिसमैनेजमेंट दिखा था।

बीए ऑनर्स की एक स्टूडेंट कहती हैं, एक ग्रुप नहीं था, अलगअलग ग्रुप में थे वो। कुछ लोगों ने मुझे और मेरी दोस्त को गलत ढंग सेछुआ। वे अश्लील इशारे कर रहे थे, मैं चिल्लाई तो वो हंसने लगे। स्टूडेंट्स का कहना है कि यह इतना खौफनाक था कि कुछ लड़कियांरो रही थीं, कुछ को पैनिक अटैक गया था। ये लोग कॉलेज का गेट फांदकर अंदर घुसे। पुलिस, कॉलेज सिक्यॉरिटी, बाउंसर्ससबथे। मगर किसी ने मदद नहीं की।

कॉलेज की एक और स्टूडेंट कहती हैं, भीड़ बढ़ती जा रही थी, मेन ग्राउंड में इस भीड़ को क्रॉस करने का भी मौका नहीं मिल पा रहा था।सिक्यॉरिटी ने पास चेक किए, स्टूडेंट्स आईडी। किसी भी गेट से किसी ने भी एंट्री ली। प्रशासन और सिक्यॉरिटी की इसीलापरवाही और बेफिक्री के बीच कई करीब 30 से 35 साल के पुरुष कॉलेज में घुसे।

बीए थर्ड ईयर की एक स्टूडेंट बताती हैं, सैकड़ों लोग थे, क्राउड मैनेजमेंट था ही नहीं। इनमें से 200-300 लोग सिर्फ लड़कियों को परेशानकरने पहुंचे थे। कई ने शर्ट के बटन खोले, तो कुछ ने शर्ट। कुछ ने मौका पाकर मास्टरबैट तक किया। एकदो ने लड़कियों पर पैसे भीफेंक दिए। वो हमें गलत जगह छू रहे थे, धक्के मार रहे थे। अंदर पुलिस तैनात थी। हमने मदद मांगी मगर उन्होंने कुछ नहीं किया। इसवजह से कई लड़कियों ने 6 बजे के बाद निकलना शुरू किया। मैं खुद सह नहीं पाई और बाहर पहुंची, जहां एक पीसीआर वैन भी खड़ीथी।

कुछ बदमाश वॉशरूम के बाहर तक पहुंचे

गार्गी कॉलेज की एक थर्ड ईयर स्टूडेंट कहती हैं, मैंने कुछ लड़कियों को बदहवास सा देखा। दो लड़कियों को तो चक्कर गया। मैंने येभी सुना कि कुछ बदमाश वॉशरूम के बाहर तक पहुंचे और बाहर से कुंडी लगा दी। लड़कियां घबराकर रो रही थीं। कुछ लोगों नेलड़कियों का पीछा किया, ग्रीन पार्क मेट्रो स्टेशन तक, दूर रास्ते तक। 9 बजे के बाद कॉलेज की कई लड़कियां बाहर निकली। वहकहती हैं, गेट से चढ़कर मैंने कुछ लोगों को अंदर कूदते हुए देखा। स्टूडेंट्स का कहना है कि कुछ लड़कों ने भीड़ को संभालने के लिएलड़कियों की मदद भी की।