छत्तीसगढ़ में CRPF जवानों ने किया 10 किलो के IED ब’म को निष्क्रिय

New Delhi: छत्तीसगढ़ में आज केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने एक बड़े हा’दसे को टाल दिया है। सीआरपीएफ ने जवानों ने न’क्सल प्रभावित क्षेत्र से 10 किलो IED को निष्क्रिय कर दिया है। सीआरपीएफ की 74 वीं बटालियन की बम डिस्पोजल टीम ने आज सुकमा में 10 किलो के IED ब’म को निष्क्रिय कर दिया। इस टीम ने सुकमा के जंगलों में न’क्सल प्रभावित क्षेत्र में IED प्राप्त किया।

पिछले कुछ दिनों में सेना और नक्स’लियों के बीच मु’ठभेड़ की घट’नाएं भी राज्य में काफी बढ़ गई हैं। हाल ही में छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में सुरक्षा बलों के साथ मु’ठभेड़ में कम से कम दो न’क्सली मारे गए। मु’ठभेड़ रायपुर से 200 किलोमीटर दूर ताड़ोकी थाना क्षेत्र के मलीपारा और मुर्नार गांवों के बीच जंगलों में हुई।

राज्य के पुलिस महानिदेशक (नक्सल विरोधी अभियान) गिरधारी नायक के अनुसार, न’क्सलियों द्वारा न’क्सल रोधी अभियान के तहत तैनात गश्ती दल पर गो’लियां चलाने के बाद मु’ठभेड़ शुरू हो गई। न’क्सलियों के शवों की पहचान की जा रही है। पुलिस ने साइट से दो एसएलआर राइ’फल 303 राइ’फल और 315 राइ’फल बरामद की ।

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ के नक्स’ल प्रभावित सुकमा में राज्य सरकार और सेना द्वारा नक्स’ल को जड़ से उ’खाड़ फै’कने के लिए काम किया जा रहा है। इसी मु’हिम के तहत हाल ही में  भेजी क्षेत्र में 13 साल बाद बंद स्कूल को दौबारा शुरू किया गया है। इस स्कूल को प्रशासन द्वारा क्षेत्र में शांति और सुरक्षा का माहौल बनाने के उद्देश्य से शुरू किया जा रहा है। स्थानीय बच्चों के लिए यह एक राहत कि खबर है। जब स्कूल के गेट्स एक बार फिर से बच्चों के लिए खुल गए हैं तो क्षेत्र में माहौल भी सुधरने की उम्मीद की जा रही है।