ड्यूटी ज्वाइन करने के लिये 450 किमी पैदल चला कॉन्स्टेबल, कहा – अभी देश और समाज को मेरी जरूरत है

New Delhi : उत्तर प्रदेश के कानपुर में रहने वाले आनंद पांडे आजकल जबलपुर में चर्चा के केंद्रबिंदू में हैं। मध्य प्रदेश पुलिस में सेवारत हैं। लेकिन अभी जो सम्मान मिल रहा है उसकी उन्होंने कभी सोची भी नहीं थी। लेकिन सम्मान मिले भी तो क्यों नहीं। आखिर उनहोंने काम ही ऐसा किया है। 450 किलोमीटर वे पैदल चलकर जबलपुर पहुंचे हैं, सिर्फ इसलिये की ड्यूटी ज्वाइन कर सके।

जी सृजना अपनी नवजात बेटी के साथ ऑफिस में


आनंद पांडे इन दिनों जबलपुर शहर के ओमती थाने में तैनात हैं। दरअसल पांडे 20 मार्च को पत्नी के इलाज के लिए छुट्टी लेकर अपने गांव गये थे, लेकिन इसी दौरान लॉकडाउन हो गया। इसबीच, छुट्टियां भी खत्म हो गईं। आनंद को ड्यूटी पर जबलपुर लौटना था। ऐसे में उन्होंने हार नहीं मानी और 30 मार्च को कानपुर से जबलपुर के लिए पैदल निकल पड़े। रास्ते में जहां कहीं लिफ्ट मिलती, वे बैठ जाते और फिर उतरकर पैदल चलने लगते थे। उन्हें जबलपुर पहुंचने में 3 दिन लगे। एसपी एस. बघेल समेत सारे पुलिस के स्टाफ आनंद के जज्बे की सराहना कर रहे हैं।

आनंद ने इस पर कहा – अभी देश को, समाज को मेरी जरूरत थी। मैं घर पर कैसे रहता।


इधर विशाखापत्तनम नगर निगम (GVMC) की आयुक्त G.Srijana कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच सही मायनों में एक फ्रंटलाइन वारियर बन गई हैं। श्रीजना अपने बेटे को जन्म देने के केवल 22 दिनों बाद अपने कार्यालय लौट गई हैं। श्रीजना के बच्चे को जन्म देने के कुछ समय बाद ही केंद्र सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी। शहर को पटरी पर लाने के लिये वे अपनी ड्यूटी पर लौटना पड़ा। जब श्रीजना से पूछा गया कि वह कैसे अपने आधिकारिक कार्यों के साथ बच्चे की देखभाल करती हैं तो उन्होंने कहा कि उनके वकील पति और मां इसमें उनका पूरा साथ देते हैं। उन्होंने बताया कि वह हर चार घंटे बाद अपने घर जाती हैं ताकि अपने नवजात को दूध पिला सकें और इसके बाद काम पर लौट आती हैं।
इस दौरान उनके पति और मां बच्चे की देखभाल करते हैं। एक जिम्मेदार और प्रमुख अधिकारी के रूप में, उन्होंने कहा कि वह इन कठिन समय के दौरान काम पर रहने के महत्व से अवगत हैं और जानती हैं कि इस मुश्किल समय में आपातकालीन सेवाओं की कितनी आवश्यकता है।
श्रीजना ने कहा कि जिला प्रशासन वायरस के खतरे को रोकने के लिए एक संयुक्त कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा – जीवीएमसी यह सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास कर रहा है कि मैदानी स्तर पर सेनेटरी का काम हो। गरीबों के लिए जरूरी आवश्यकताओं को प्रदान करना और जिला अधिकारियों के साथ सभी स्तरों पर समन्वय स्थापित करना ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वायरस को विशाखापत्तनम में ही रोका जाए, यह उनके काम का हिस्सा है।

आयुक्त ने बताया कि आपातकाल के दौरान ड्यूटी संभालने और लोगों को सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने की आवश्यकता थी। उन्होंने कहा, ‘मेरी भूमिका इस कोशिश में केवल एक छोटा सा हिस्सा है। मेरे पूरे परिवार ने मुझे इस प्रतिबद्धता के लिए काम करने की ताकत दी है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + one =