कांग्रेस की समीक्षा बैठक आज, कमलनाथ चुनाव में सक्रिय न होने पर नेताओं की लेंगे क्लास

NEW DELHI: मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बैठक बुलाई हैं। दरअसल, भोपाल में कांग्रेस के सभी उम्मीदवारों की बैठक आयोजित की हैं। सूत्रों की मानें तो इस बैठक में चुनाव के दौरान नए पदाधिकारियों के कामों की समीक्षा की जायेगी। इस बैठक को लेकर कांग्रेस उम्मीदवारों में हलचल तेज हैं। बैठक से पहले एक लिस्ट तैयार की गई। इस लिस्ट में उन नेताओं के नाम हैं जिनकी भूमिका विधानसभा चुनाव के दौरान सक्रिय नहीं थी।

बैठ में कामों की समीक्षा करने के बाद उनके ऊपर कार्रवाई भी की जा सकती हैं। कई कांग्रेस नेताओं का आरोप था कि पार्टी ने ऐसे लोगों की नियुक्ति की हैं, जिन्हें उनके ही मोहल्ली में कोई भी नहीं पहचानता। इल बैठक में सभी 229 विधानसभा क्षेत्रों के प्रत्याशियों को कमलनाथ और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा जानकारी के बाद ही तय करेंगे। बैठक में बताया जायेगा कि जब पूरे प्रदेश में ईवीएम में गड़बड़ियों की शिकायतें लगातार आ रही हैं तो ऐसे में प्रत्याशियों को मतगणना के दौरान ज्यादा सावधान रहने की जरूरत हैं।

mp election

चुनाव को लेकर कमलनाथ का दावा हैं कि प्रदेश में सरकार कांग्रेस की बनने वाली है। उन्होंने शिवराज सरकार पर वार करते हुए कहा कि शिवराज जी कह रहे हैं कि बीजेपी को चुनाव आयोग ने अमानवीय तरीके से प्रताड़ित किया, उन्होंने चुनावी कार्य में लगे कर्मचारियों का ऐसा कहकर अपमान किया है, उनकी निष्पक्षता पर शक जाहिर किया है, इसलिए शिवारज को उनसे माफी मांगनी चाहिए।

कमलनाथ के इस बयान पर शिवराज सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण हैं कि कांग्रेस संवैधानिक संस्थाओं की मर्यादा और निष्पक्षता पर संदेह कर रही है। ऐसा करते हुए कांग्रेस सिद्ध कर रही हैं कि वे अपनी जीत को लेकर पूरे तरह से भरोसेमंद नही है। वे प्रशासन को दवाब में लाने का प्रयास कर रहे हैं। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमने कर्तव्यों की पूर्ति की हैं और लगातार करते रहेंगे। अपने कर्तव्यों का निर्वाह करने के लिए चुनाव परिणाम का इंतजार करें, इतने स्वार्थी हम नहीं हो सकते।