कांग्रेस नेता का बयान, pm ने जनता की मेहनत की कमाई को कालाधन बताकर नोटबंदी का किया था ऐलान

New Delhi: दो साल पहले आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था। 8 नवंबर 2016 की शाम 500 और 1,000 रुपये के नोट रात 12 बजे से अवैध होने का फैसला पीएम मोदी ने सुनाया था। पीएम की इस घोषणा से लोगों में अफरा-तफरी मच गई थी। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी आरबीआई ने 500 रुपये के नए नोट सर्कुलेशन में लाए, लेकिन 1,000 रुपये को पूरी तरह खत्म कर दिया गया और 2,000 रुपये के नए नोट आ गए।

दो साल पूरे होने पर कांग्रेस ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि आज के ही दिन दो साल पहले, प्रधानमंत्री ने गलत और असंवेदनशील फैसला लिया था। इसके बाद देश में जो भी हुआ, उस सबकी जिम्मेदारी प्रधानमंत्री को लेनी चाहिए। आनंद शर्मा ने कहा जर्मनी जैसे देश में 80 प्रतिशत कैश चलता है। सरकार ने जो बातें कही थीं, सभी गलत साबित हुईं। मेरा पीएम मोदी से सीधा प्रश्न है, किया क्या वह आज भी गलती मानकर माफी मांगने के लिए तैयार हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी ने लोगों के मेहनत के पैसे को कालाधन कहा था। क्या कोई अपराधी घोषणा करके अपने अकाउंट में पैसे डालता है? इस गलत फैसले के बाद कई आतंकवादी हमले हुए और 2000 रुपये के नए नोट मिले। वहीं बचाव कते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली का बयान सामने आया। अरूण जेटली ने कहा कि नोटबंदी अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए सरकार की तरफ से उठाया गया महत्वपूर्ण कदम था। सरकार ने पहले भारत से बाहर कालेधन पर शिकंजा कसा।

जेटली ने कहा कि नोटबंदी को लेकर गलत आलोचना यह की जा रही ह कि सारे पैसे बैंकों में जम कर लिए गए। पैसे की जब्ती करना नोटबंदी का मकसद नहीं था। अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने और कर चुकाना इसके व्यापक लक्ष्य था। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बीजेपी पर निशाना साधा।

मनमोहन सिंह ने कहा कि अर्थव्यवस्था का ये तबाही वाला दिन हैं, इस कदम का असर देश का हर व्यक्ति पर पड़ा हैं। मोदी सरकार को अब ऐसा कोई आर्थिक कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता की स्थिति पैदा हो।  उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 2016 में त्रुटिपूर्ण ढंग से और सही तरीके से विचार किये बिना नोटबंदी का कदम उठाया था। आज उसके दो साल पूरे हो गए। भारतीय अर्थव्यवस्था और समाज के साथ की गई इस तबाही का असर अब सभी के सामने है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *