अयोध्या फैसले पर नाराजगी जताना असदुद्दीन ओवैसी पर पड़ा भारी, दर्ज हुआ FIR

New Delhi : अयोध्या रामजन्म भूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के दिए गए फैसले पर असदुद्दीन ओवैसी ने को नराजगी जताना भारी पड़ता नजर आ रहा है। कोर्ट के फैसले पर दिए गए बयान के कारण औवेसी पर मुकदमा दर्ज हो गया है।

औवेसी के बयान से नाराज भोपाल के एक वकील पवन यादव ने उनके खिलाफ जहांगीराबाद पुलिस स्टेशन में उकसाने वाला बयान देने और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ जाने के आरोप में FIR दर्ज करवाई है।

आपको बता दें कि राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सु्प्रीम कोर्ट के फैसले को नकारते हुए AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाए थे। ओवैसी ने कहा था कि मुस्लिम पर्सनल बोर्ड की तरह हम भी इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं। इसके साथ ही मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन देने के कोर्ट के फैसले को यह कहकर मानने से मना कर दिया कि हम खैरात की जमीन नहीं ले सकते।

ओवैसी ने कहा था कि यह कानून के खि’लाफ है। ऐसा नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट से कोई गलती नहीं हो सकती है। हमें हिंदुस्तान के संविधान पर पूरा भरोसा है। हम अपने हक के लिए ल’ड़ रहे थे। 5 एकड़ जमीन की खैरात की जरूरत नहीं है। मुस्लिम गरीब हैं लेकिन मस्जिद के लिए पैसा इकट्ठा कर सकते हैं।

गौरतलब है कि सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने शनिवार को इस मामले में फैसला सुनाया। 5 न्यायाधीशों की बेंच ने 16 अक्टूबर को इस मामले की सुनवाई पूरी की थी। संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस धनंजय वाई चन्द्रचूड और जस्टिस एस अब्दुल नजीर भी शामिल थे। इस फैसले में वि’वादित जमीन राम जन्मभूमि न्यास को देने का फैसला किया है। वहीं मुस्लिम पक्ष सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में ही अलग जगह देने के लिए कहा गया है। कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े को दावे को भी खा’रिज कर दिया