हैदराबाद एनका’उंटर पर बोले CJI-बदले की भावना से किया गया न्याय इंसाफ नहीं

New Delhi : हैदराबाद में गैंगरे’प के आरोपियों के एनका’उंटर पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबडे ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने गैंगरे’प के आरोपियों के एनकाउंटर में मा’रे जाने की घ’टना की आलोचना की है।

जोधपुर में एक कार्यक्रम में जस्टिस शरद अरविंद बोबडे ने कहा कि न्याय कभी भी आनन-फानन में किया नहीं जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर न्याय बदले की भावना से किया जाए तो अपना मूल चरित्र खो देता है।

जोधपुर में राजस्थान हाईकोर्ट की नई इमारत के उद्घाटन समारोह में जस्टिस एस ए बोबड़े ने कहा, “मैं नहीं समझता हूं कि न्याय कभी भी जल्दबाजी में किया जाना चाहिए, मैं समझता हूं कि अगर न्याय बदले की भावना से किया जाए तो ये अपना मूल स्वरूप खो देता है”। उन्होंने कहा कि न्याय को कभी भी बदले का रूप नहीं लेना चाहिए।

हैदराबाद की एक पशु चिकित्सक युवती से सामूहिक दु’ष्कर्म करने के बाद उसकी ह’त्या कर दी गई थी। इस कांड के चार आरो’पियों को पुलिस ने शुक्रवार को एक मुठभे’ड़ में मा’र गिराया था। रिपोर्ट के मुताबिक हैदराबाद से करीब 50 किलोमीटर दूर शादनगर के पास चटनपल्ली में पुलिस से ये आ’रोपी हथि’यार छीनने की कोशिश के बाद भाग रहे थे। इस दौरान पुलिस की कार्रवाई में ये चारों आ’रोपी मा’रे गए। पुलिस ने कहा कि दु’ष्कर्म की रात मौका-ए-वारदात का क्रा’इम सीन समझने के लिए वो इन आरोपियों को लेकर वहां गई थी।