चिराग ने IIT में टॉप किया, लेकिन दाखिला नहीं लेंगे- दो साल से मोबाइल-टीवी देखा भी नहीं है

New Delhi : देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित प्रवेश परीक्षा इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) की 2020 की परीक्षा में पुणे के चिराग फलोर ने टॉप किया है। लेकिन वे देश के किसी भी आईआईटी संस्थान में एडमिशन नहीं लेंगे क्योंकि वे अमेरिका मैनचेस्टर इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में प्रवेश ले चुके हैं और फिलहाल कोरोना की वजह से ऑनलाइन क्लॉसेज ले रहे हैं। चिराग की सफलता के किस्से बचपन से ही जुड़ते गये हैं। इसी साल जनवरी में उन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बालशक्ति अवार्ड से सम्मानित किया। इस दौरान उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करने का मौका मिला। वे खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारों से बेहद प्रभावित हैं।

चिराग के पिता पवन कुमार फलोर पुणे में ही एक बड़ी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं जबकि उनकी मां हाउस मेकर हैं। उनकी छोटी बहन लावण्या अपने भाई की सफलताओं पर फूले नहीं समा रहीं हैं। चिराग का मानना है कि उनकी बहन उनके जीवन की सबसे मजबूत पक्ष हैं और उनके बेहद करीब हैं। चिराग की एक खासियत यह है कि उन्होंने अपनी पढ़ाई को इतनी गंभीरता से लिया कि बाकी दुनियादारी से थोड़ी दूरी बना ली। न फिल्में, न टीवी और न ही मोबाइल। क्लास 9वीं से ही वे आईआईटी की तैयारी करने लगे और पिछले दो साल से तो वे मोबाइल और टीवी से पूरी तरह कट गये।

चिराग बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज हैं और हर साल अपने क्लास में वे फर्स्ट करते आये हैं। उनके आईआईटी में टॉप करने से और एडमिशन न लेने से भी एक चर्चा सी छिड़ गई है। हालांकि उनका कहना है कि वे पढ़ाई जरूर अमेरिका के एमआईटी में करेंगे लेकिन काम इंडिया में ही करेंगे और देश को आगे बढ़ाने में ही अपना योगदान देंगे। उनको तारे देखना, सौरमंडल की जानकारी लेना बेहद पसंद हे। वे भविष्य में मंगल ग्रह पर लोगों के लिये आशियाना बनाना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ninety four − = 93