चीन का नुकसान, भारत का फायदा होते जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग। पावर ट्रांसफर की प्रतीकात्मक तस्वीर

पाक में चीनी राजनयिक- लद्दाख तनाव 370 के खात्मे का परिणाम, भारत दोहरे आत्‍मविश्‍वास में अंधा

New Delhi : लद्दाख में सैन्‍य तनाव के बीच पाकिस्‍तान में चीनी दूतावास के प्रवक्‍ता के ट्वीट से हड़कंप मच गया है। पाकिस्तान में चीनी दूतावास के प्रवक्‍ता वांग शिआनफेंग ने लद्दाख में भारत और चीनी सैनिकों के बीच जारी गतिरोध को भारत के पिछले साल जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 को खत्‍म करने के फैसले से जोड़ दिया। वांग ने अपने ट्वीट में चीन के खुफिया मंत्रालय से जुडे़ एक विशेषज्ञ के लेख को भी शेयर किया। हालांकि विवाद पैदा होने के बाद चीनी राजनयिक ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।

ट्विटर पर खुद को पाकिस्‍तान में चीनी दूतावास का प्रवक्‍ता बताने वाले वांग के शेयर किये गये इस लेख में सीमा पर जारी ताजा तनाव को कश्‍मीर के दर्जे में आये बदलाव से जोड़ा है। वांग ने लिखा- कश्‍मीर की यथास्थिति के दर्जे में एकतरफा बदलाव के भारत के फैसले ने चीन और पाकिस्‍तान की संप्रभुता के लिए एक चुनौती पैदा कर दी है। इससे भारत-पाकिस्‍तान और चीन-भारत संबंध और ज्‍यादा जटिल हो गये हैं।
वांग पाकिस्‍तान में मीडिया का काम देखते हैं। हालांकि यह ट्वीट उनकी निजी राय हो सकती है लेकिन ऐसा पहली बार है कि किसी चीनी अधिकारी ने सीमा पर जारी ताजा तनाव को कश्‍मीर के दर्जे में आये बदलाव से जोड़ा है। इसमें खासतौर पर लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश बनाने का फैसला शामिल है जिससे चीनी ड्रैगन काफी नाराज है। लद्दाख में जारी ताजा विवाद को सुलझाने के लिये भारत और चीन के वार्ताकार लगातार बातचीत कर रहे हैं।
पिछले साल 5 अगस्‍त को जब भारत ने जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 को खत्‍म किया था तब चीन ने बयान जारी करके भारत के इस फैसले की आलोचना की थी। साथ ही जम्‍मू-कश्‍मीर शासित प्रदेश बनाये जाने के फैसले पर भी नाराजगी जताई थी। चीन ने कहा था कि भारत सीमा के मुद्दे पर सतर्कता बरते और कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाये जिससे सीमा का मुद्दा और ज्‍यादा जटिल हो जाये।
वांग ने जिस लेख को शेयर किया है, उसमें लेखक वांग शिदा ने अपने लेख की शुरुआत में ही कहा है – भारत ने पिछले साल अगस्‍त महीने से ही लगातार कई एकतरफा फैसले जम्‍मू-कश्‍मीर में यथास्थिति को बदलने की खातिर लिये हैं। साथ ही भारत लगातार क्षेत्रीय तनाव को भड़का रहा है। इस आर्टिकल का शीर्षक है- भारत दोहरे आत्‍मविश्‍वास से अंधा हुआ। वांग शिदा ने कहा है भारत के इस कदम से क्षेत्रीय शांति को गंभीर खतरा पैदा हो गया है। इससे चीन और पाकिस्‍तान के संप्रभुता के लिये भी बड़ी चुनौती पैदा हो गई है।

वांग शिदा ने लिखा- चीन पक्ष की ओर भारत ने नक्‍शे में एक नया इलाका खोल दिया है। शिनजियांग और तिब्‍बत के अंतर्गत आने वाले इलाके को लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश में शामिल कर लिया है। पाकिस्तान अधिकृत कश्‍मीर को अपने कथित जम्‍मू-कश्‍मीर केंद्रशासित प्रदेश में शामिल कर लिया है। इसने चीन को कश्‍मीर विवाद में बाध्‍य किया है। चीन और पाकिस्‍तान को कश्‍मीर मुद्दे पर जवाबी कार्रवाई के लिए मजबूर किया है। इससे भारत और चीन के बीच सीमा विवाद सुलझाने का मामला और ज्‍यादा पेचीदा हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighty six − eighty four =