चीन सीमा पर उड़ा रहा लड़ाकू विमान, बढ़ा रहा टैंक, भारत ने भी सीमा पर बढ़ाई ताकत, हवाई चौकसी बढ़ी

New Delhi : लद्दाख में सीमा पर भारत-चीन में तनाव के बीच करीब 100-150 किलोमीटर दूर स्थित बेस में चीन ने 10-12 फाइटर एयरक्राफ्ट तैनात किये हैं। भारतीय सेना इन फाइटर एयरक्राफ्ट्स (J-11 और J-7) के मूवमेंट पर नजर गड़ाये हुये है। ये एयरक्राफ्ट होतों और गागुंसा बेस में हैं। ये 10-12 एयरक्राफ्ट भारतीय सीमा के नजदीक उड़ान भरते भी दिख रहे हैं। सेना चीनी विमानों की हर गतिविधि पर नजर गड़ाये हुये हैं। चीन के एयरक्राफ्ट लद्दाख इलाके में सीमा से 30-35 किलोमीटर के करीब उड़ान भरते दिख रहे हैं। हालांकि, अंतराष्ट्रीय नियम हैं कि सीमा से 10 किलोमीटर के अंदर कोई विमान नहीं आ सकता और चीनी विमान उस सीमा से दूर ही उड़ान भर रहे हैं।

मई में जब भारतीय सेना और चीनी सेना के चौपल के बीच टकराव की स्थिति बन रही थी तो भारतीय सेना ने सुखोई-30 एमकेआई को तैयार कर लिया था। सूत्रों के अनुसार पिछले साल भी 6 पाकिस्तानी जेएफ-17 एयरक्राफ्ट का मूवमेंट देखा गया था, जो पीओके के स्कार्डु से उड़ा था और होतों में जाकर उसने शाहीन-8 नाम की एक एक्सरसाइज में हिस्सा लिया था। सेना के कुछ सूत्रों ने बताया है कि भारतीय और चीनी सेनाएं अपने बेस पर हथियार और जंग के मैदान में इस्तेमाल होने वाली गाड़ियां यानी टैंक और अन्य गाड़ियां ला रहे हैं। यहां तक कि आर्टिलरी गन भी सेनाएं अपने बेस पर ला रही हैं। बता दें कि पिछले करीब 25 दिनों से दोनों सेनाओं के बीच तनाव की स्थिति है।
दोनों देशों की सेनाएं अपनी युद्ध की क्षमता उस समय में बढ़ा रही हैं, जब दोनों देशों के बीच मिलिट्री और कूटनीति के स्तर पर बातचीत से विवाद सुलझाने की कोशिश की जा रही है। चीन की सेना आर्टिलरी गन और कॉम्बैट व्हीकल पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास ला रही है, तो भारतीय सेना भी सीमा के पास अपने बेस पर चीनी सेना को टक्कर देने लायक हथियार और गाड़ियां ला रही है। इतना ही नहीं, भारतीय वायुसेना भी इस इलाके का लगातार सर्विलांस कर रही है।

इससे पहले सैटेलाइट से मिली तस्वीरों ने चीन का दोहरा चरित्र सामने ला दिया था। न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ ने सैटेलाइट की तस्वीरें दिखाई कि चीन ने लद्दाख वॉर मॉडल को हेलन शन इलाके में रीक्रिएट किया था, ताकि इसकी अच्छे से स्टडी की जा सके और अपने सुरक्षा बलों को भविष्य के संभावित हमले के लिए ट्रेन किया जा सके। इस इलाके में सुरक्षा बल, हैलीपैड, पावर प्लांट यूनिट, पीएलए कैंप और भारी-भारी ट्रक देखे गए हैं। इससे चीन का दोहरा चरित्र उजागर हुआ है कि एक तरफ तो चीन शांति की बात करता है और दूसरी तरफ हमला करने की तैयारी कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighty three − = eighty two