शेल्टर होम में हैवानियत, सजा के तौर पर बच्चियों के प्राइवेट पार्ट में डाला जाता है मिर्ची पाउडर

New Delhi: दिल्ली के शेल्टर होम से हैवानियत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा हैं कि इस शेल्टर होम में बच्चियों से पहले काम कराया जाता अगर बच्ची विरोध करती तो उन्हं मिर्च खिलाई जाती, इसके बाद भी अगर बच्चियां नहीं मानती तो उनके प्राइवेट पार्ट में मिर्च पाउडर डाल दिया जाता था। मामला सामने आने के बाद दिल्ली महिला आयोग ने शेल्टर होम के सभी स्टाफ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया हैं।

दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने बताया कि ये मामला द्वारका के एक शेल्टर होम का हैं, जहां बच्चियों को प्रताड़ित किया जाता था, उनकी पिटाई की जाती थी और उन बच्चियों में 2 बच्चियों के जिनकी उम्र महज 6-7 साल हैं, उनके प्राइवेट पार्टी पर मिर्ची पाउडर डाला गया हैं। उन्होंने बताया कि जब 27 दिसंबर को दिल्ली महिला आयोग की समिति की सदस्य जब शेल्टर होम में निरीक्षण के लिए पहुंची तो इस बात का खुलासा हुआ।

shelter home

माले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने शेल्टर होम के खिलाफ पॉक्सो एक्ट समेत खई धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया हैं। आपको बता दें कि दिल्ली महिला आयोग ने सरकारी और निजी शेल्टर होम की जांच करने के लिए एक समिति का गठन किया था। समिति के सदस्यों ने जब द्वारका के शेल्टर होम का दौरा किया तो वहां पर कई नाबालिग लड़कियों को रखा गया था।

समिति के सदस्यों ने जब लड़कियों से बात की तो चौंकाने वाला मामला सामने आया। लड़कियों ने बताया कि उनके बर्तन धुलाए जाते हैं, कमरे और टॉयलेट साफ करवाए जाते हैं। यही नहीं, उनसे किचन के काम और कपड़े भी धुलवाए जाते हैं। जब वे काम से मना करती हैं तो उन्हें मिर्च खिलाई जाती हैं और प्राइवेट पार्ट में मिर्ची पाउडर डाल दिया जाता हैं।

दिल्ली महिला आयोग की शिकायत पर शेल्टर होम के स्टाफ के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई हैं। महिला आयोग ने महिला एवं बाल विकास मंत्री को मामले से अवगत कराया और निजी शेल्टर होम में गड़बड़ियों और उसके स्टाफ द्वारा किए गए घिनौने काम के बारे में जानकारी दी। बच्चियों ने आयोग से अपील की हैं कि उनको वहां से दूसरी जगह न भेजा जाए क्योंकि उनका स्कूल शेल्टर होम के पास में ही हैं।