महाराष्ट्र में BJP के सरकार गठन पर चिदंबरम: इसमें राष्ट्रपति से लेकर प्रधानमंत्री तक का हाथ

New Delhi: INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कांग्रेस नेता पी चिदंबरम को दिल्ली की रोस एवेन्यू कॉम्प्लेक्स की एक विशेष सीबीआई अदालत में सुनवाई के लिए पेश किया गया। उनकी न्यायिक हिरासत को 11 दिसंबर के लिए बढ़ा दिया गया है। जब उन्हें कोर्ट से दोबारा जेल ले जाया जा रहा था तो मीडिया से बात करते हुए उन्होंने महाराष्ट्र की राजनीति पर बात की।

उन्होंने भाजपा द्वारा महाराष्ट्र में रातोंरात सरकार बनाने की आलोचना करते हुए कहा कि “इसमें महाराष्ट्र के राज्यपाल, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक का हाथ था। उन्होंने कहा कि ये बेहद शर्मनाक है कि इसमें राष्ट्रपति भी शामिल थे जो उस दिन सरकार बनाने के लिए सुबह चार बजे उठे होंगे।”

चिदंबरम को आज उनकी न्यायिक हिरासत खत्म होने के बाद अदालत के सामने पेश किया गया था। उन्हें ईडी ने 16 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था और उन्हें बाद में 27 नवंबर तक तिहाड़ जेल में अदालत द्वारा न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। उच्च न्यायालय ने 15 नवंबर को उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि उनके खिलाफ आरोप गंभीर हैं और उन्होंने अपराध में “सक्रिय और महत्वपूर्ण भूमिका” निभाई है। इसके बाद, उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में आदेश को चुनौती दी थी।

यह मामला तब का है जब कांग्रेस की सरकार में चिदंबरम वित्त मंत्री थे। कार्यकाल क दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपये आईएनएक्स मीडिया को दिए जाने का कांग्रेस नेता पर आरोप है। ये लेने देन विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी से हुआ था। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने मई 2017 में इस संबंध में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था। उस वर्ष के अंत में, ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला भी दर्ज किया था।

कांग्रेस नेता को पहली बार 21 अगस्त को INX मीडिया भ्रष्टाचार मामले में CBI ने गिरफ्तार किया था लेकिन दो महीने बाद सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दे दी थी।