अंतरिक्ष/चंद्रयान-2 जुलाई में होगा लॉन्च,जहाँ आज तक कोई नहीं पंहुचा वहां पहुंचेगा भारत:K SIVAN

New Delhi: जिस दिन का इंतज़ार वैज्ञानिकों के साथ-साथ पुरे भारत को था वो वक्त अब करीब आ गया है। इसरो अपने अतिमहत्वूर्ण प्रोजेक्ट चंद्रयान-2 को 9 से 16 जुलाई के बीच में लॉन्च करने वाला है।

इसरो के अध्यक्ष डॉ. K SIVAN ने कहा है कि,‘‘चंद्रयान-2 चाँद पर उस जगह उतरेगा जहां आज तक कोई नहीं पहुंचा है । ये चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा, इस क्षेत्र को अब तक किसी ने नहीं खंगाला है। चंद्रयान-2 इसरो के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण और ऐतिहासिक मिशन है। जिसे जुलाई 9 से 16 के बीच में लॉन्च किया जाएगा।” इसरो के मुताबिक इस अभियान में सबसे शक्तिशाली जीएसएलवी मार्क 3 प्रक्षेपण यान का इस्तेमाल किया जाएगा।

इसरो के अनुसार, भारत के दूसरे चंद्रयान मिशन में 13 पेलोड होंगे और इसमें अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA का भी एक उपकरण होने की बात सामने आई है । हालांकि इसरों ने इस पर अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है । इस अंतरिक्ष यान का वजन 3.8 टन है। यान में तीन मोड्यूल (विशिष्ट हिस्से) ऑर्बिटर , लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) हैं। इसरो का ये सबसे महत्वाकांक्षी मिशन, चंद्रयान -2 कुल $124 मिलियन की लागत से बनाया गया है । इसका बजट हॉलीवुड ब्लॉकबस्टर एवेंजर्स एंडगेम के आधे से भी कम है, जिसका अनुमानित बजट $ 356 मिलियन था।

ये भी पढ़ें- अंतरिक्ष/ RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, ख़ुफ़िया निगरानी कर आतंकियों की घुसपैठ रोकने में करेगा मदद

भारत के चंद्र मिशन का प्रक्षेपण अप्रैल में ही होना था लेकिन शुरुआत में इजराइल के ‘बेरेशीत प्रक्षेपण यान’ के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद इसे टाल दिया गया । चंद्रयान -2 सफल चंद्रयान -1 मिशन की अगली कड़ी है, जिसने 2009 में चंद्रमा पर पानी की उपस्थिति की पुष्टि की थी। मिशन शक्ति और RISAT-2B सैटेलाइट को लॉन्च कर इसरो ने दुनिया में भारत का परचम लहराया है। अब इसरो चंद्रयान-2 को लॉन्च कर एक बार फिर चाँद पर भारत का झंडा लहराने को भी तैयार है।