इस समय राखी बांधने से होगी विशेष फल की प्राप्ति

इस दुनिया के सबसे चुलबुले रिश्ते का उत्सव मनाने वाला त्यौहार आखिर आ ही गया। रक्षाबंधन एक ऐसा त्योहार जिस दिन भाई और बहन के रिश्ते को पूर हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। इस बार की राखी बहुत ही खास है क्योंकि इस बार राखी स्वतंत्रता दिवस वाले दिन है ऐसे योग पूरे 19 सालों बाद बन रहे हैं। ये ही वो दिन होता है जिस दिन भाई और बहन आपस में एक दूसरे के प्रति प्यार को खुल कर दिखाते है वरना पूरे साल भर तो वो आपस में चुहे-बिल्ली की तरह ल’ड़ते ही रहते हैं।

इस दिन बहने अपने भाई के हाथों पर रक्षासूत्र बांधकर उनकी लंबी उम्र और तरक्की की कामना करती हैं वहीं भाई इस दिन अपनी बहनों की सदैव रक्षा करने का वादा करते हैं और उन्हें उनके मनपसंद तोहफें भी भेंट में देते हैं। किसी भी तीज त्योहार के मौके पर मन में जो सबसे पहला सवाल मन में आता है वो ये कि आखिर इस त्योहार को मनाने का शुभ मुहर्त क्या है तो चलिये जानते हैं-

रक्षा बंधन के लिए शुभ मुहर्त-
इस बार रक्षा बंधन के मौके पर भद्रा का साया नहीं है जिस वजह से बहनों को अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए काफी समय मिलेगा। इस बार की रक्षाबंधन पर श्रावण नक्षत्र और सौभाग्य के योग बन रहे हैं। इतना ही नहीं इससे चार दिन पहले 11 अगस्त को गुरु मार्गी हो गए जिससे इस दिन की शुभता और भी ज्यादा बढ़ गई है।

राखी बांधने का मुहर्त सुबह के 5 बजकर 49 मिनट पर शुरू होगा और वो शाम को 6 बजकर 1 मिनट तक रहेगा। इस तरह से बहनों के पास कुल 12 घंटे 58 मिनट का समय होगा।

लेकिन इस दौरान शुभ मुहर्त 1 बजकर 43 मिनट से शुरू होकर 4 बजकर 20 मिनट तक रहेगा। इस दौरान अगर आप राखी का त्योहार मनाते हैं तो विशेष फल की प्राप्ति होगी।