सिंधिया बोले – कांग्रेसियों को पता ही नहीं बाबरी मस्जिद के ताले किसने खुलवाये, पार्टी कन्फ्यूज्ड है

New Delhi : भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राम मंदिर मुद्दे पर आज 17 अगस्त को इंदौर में कहा- पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि बाबरी मस्जिद के ताले उन्होंने पूर्व पीएम राजीव गांधी से कहकर खुलवाये। दूसरी तरफ शशि थरूर कह रहे हैं ताला पूर्व पीएम राजीव गांधी ने नहीं खुलवाया। कांग्रेस अपने आप में ही उलझ रही है। कांग्रेसियों को खुद ही पता नहीं कि उनके नेताओं ने क्या किया, क्या नहीं किया? कांग्रेस में कुछ भी स्पष्ट नहीं है। कोई दूरदृष्टि नहीं बची है।

सिंधिया ने आज उज्जैन में कालभैरव मंदिर में दर्शन-पूजन कर देश-प्रदेश की खुशहाली की प्रार्थना की। वैसे सिंधिया आज दिनभर धार्मिक आयोजन में लीन रहे। उन्होंने आज गोपाल मंदिर उज्जैन में भगवान श्री द्वारकाधीश जी की पूजा-अर्चना की। इस दौरान भाजपा की वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती भी मौजूद रहीं। उज्जैन में बाबा महाकाल की शाही सवारी के दौरान रामघाट पर बाबा महाकालेश्वर का पूजन और आरती भी किया। रामघाट पर बाबा महाँकाल की शाही सवारी का पारंपरिक पूजन किया।

सिंधिया ने कहा – कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में जो भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी मैंने देखी, वो राजनीतिक जीवन में पहले कभी नहीं देखी। हमारे साथियों ने दोगली सरकार के खिलाफ इस्तीफा दिया। मैंने और साथियों ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सदस्यता ली। नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा त्रिमूर्ति के नेतृत्व में भारत का विकास सुनिश्चित है। कमलनाथ सरकार में मैंने बार-बार जनता की आवाज को उठाया। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आने वाले उपचुनाव में जनता उन्हें सबक सिखायेगी।

उन्होंने कहा- मैं जनसेवक था, हूं और रहूंगा। मेरी दादी ने सत्य का रास्ता अपनाया था, पिताजी ने सत्य का झंडा उठाया, उसी के अनुरूप मैंने भी सत्य का झंडा उठाया। मैं कांग्रेस के नेताओं का नहीं, बल्कि केवल जनता के सवालों का जवाब दूंगा। प्रधानमंत्री और गृहमंत्री ने कश्मीर को भारत का अखंड अंग बनाने का एक ऐतिहासिक निर्णय लिया। प्रधानमंत्री ने राम मंदिर का भूमिपूजन किया। चीन को करारा जवाब दिया।

उन्होंने सचिन पायलट पर बात करते हुये कहा – कांग्रेस में हर काबिल नेता पर सवाल किया जाता है, उसे परेशान किया जाता है। उसे नीचा दिखाने की कोशिश की जाती है। बार-बार यही किया जाता है। वहां काबिल किसी को बर्दाश्त नहीं और सचिन पायलट के साथ भी ऐसा ही हुआ। उनको नीचा दिखाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− two = 3