जगन सरकार का ग्राम सचिवालय की इमारतों को पार्टी के रंग में रंगने का फरमान, BJP ने किया विरोध

New Delhi: आंध्रप्रदेश की वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रमुख और मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने एक विवादित फैसला लिया है। सरकार ने ग्राम सचिवालय के भवनों को पार्टी के झंडे के रंग में पेंट किया जाने का फैसला सुनाया है। पंचायत राज द्वारा एक आदेश जारी किया गया है जिसमें जिला कलेक्टरों को निर्देश दिया गया है कि सभी ग्राम सचिवालयों को ग्रीन ब्लू और व्हाइट में पेंट करें। इस आदेश में ग्राम सचिवालयों में मुख्यमंत्री की तस्वीर प्रदर्शित करने का भी उल्लेख है।

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का झंडा

भाजपा प्रवक्ता लंका दिनाकरन ने शुक्रवार को इस अधिनियम की निंदा की और इसे “जनता के धन का दुरुपयोग” करार दिया।

दिनाकरन ने कहा, “सत्ताधारी पार्टी के झंडे के रंग में इमारतों को रंगने का कार्य जनता के धन का दुरुपयोग है। सरकारी खजाने से धन का उपयोग क्यों किया जा रहा है।”

उन्होंने कहा, “पार्टी को अपने इस कदम की फंडिंग खुद करनी चाहिए थी यदि वे चाहते थे कि उनकी पार्टी के रंग इमारतों पर रंगे हों। वंशवादी राजनीति खेलने वाले अधिकांश क्षेत्रीय दल इस तरह के रुझान का अनुसरण कर रहे हैं। टीडीपी ने भी पहले यह कोशिश की थी। बीजेपी इस तरह की गतिविधियों की कड़ी निंदा करती है। जनता के पैसे का इस्तेमाल पार्टियों के बजाय व्यक्तिगत हित में किया जाना चाहिए।”

वाईएसआरसीपी सरकार 2 अक्टूबर से सभी गांवों में सचिवालय शुरू करने की योजना बना रही है। पार्टी का दावा है कि ये पंचायतों का एक आधुनिक संस्करण होगा जहां कोई भी सभी सरकारी सेवाओं का लाभ उठा सकता है। हालांकि यह तब से विवादों में घिर गया है जब से इन पर पार्टी के झंडे के कलर को करने का फैसला सुनाया गया है।

सिख युवती से जबरन इस्लाम कबूल करवाने वाले 8 आरोपी गिरफ्तार, युवती को परिवार के पास भेजा वापिस