असली वाले चाणक्य ने मीडिया को किया आगाह, ‘व्यर्थ की तुलना करने पर करेंगे कानूनी कार्रवाई’

New Delhi: महाराष्ट्र में जो हुआ, इससे पहले न हुआ था और शायद ही कभी आगे हो पाए। महीना भर चले इस राजनीतिक हलचल को इतिहास के पन्नों में दर्ज कर लिया गया है। कोई भी पार्टी सरकार बनाने का दावा तब पेश करती है जब उसके पास जरुरी आंकड़े मौजूद होते हैं। लेकिन, महाराष्ट्र में ऐसा नहीं हुआ। देवेन्द्र फडणवीस इतने जल्दी में थे कि बिना बहुमत जुटाए ही शपथ ले लिया। और फिर वही हुआ जो होना चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री बन गए।

71 फ़ीसदी भारत पर भाजपा और उसके सहयोगी दलों का शासन था लेकिन अब वह घट कर 40 फ़ीसदी रह गया है। कभी भाजपा कांग्रेस मुक्त भारत की बात करती थी। लेकिन वह भी दिन आ गया है कि आज सोशल मीडिया में भाजपा मुक्त भारत ट्रेंड कर रहा है।

पढ़िए क्या कह रहे हैं लोग?

चाणक्य ये कह रहे हैं……… भाजपा और उसके समर्थकों से मेरा कोई नाता नहीं है। सभी मीडिया चैनलों से आग्रह है कि व्यर्थ की तुलना करने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

कुछ भीं स्थाई नहीं है, अंत सबका होता है।

असली चाणक्य चुपचाप अपना काम कर गया …