BJP MLA बेटे को कोटा से ले आये, PK ने कहा – कहां गई मर्यादा? तेजप्रताप बोले – महाभारत होगा

New Delhi : राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को लेकर बिहार की सियासत गरमाई हुई है। लॉकडाउन के बीच स्पेशल पास से भाजपा विधायक अनिल सिंह अपने बेटे को कोटा से सड़क मार्ग के जरिये बिहार लेकर आ गये। इस पर भाजपा विधायक ने सफाई देते हुए कहा कि मेरा बेटा कोटा में परेशान था। मैंने लॉकडाउन का उल्लंघन नहीं किया है और जिला प्रशासन की अनुमति और सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए ही अपने बेटे को वहां से लाया हूं। मैंने एक पिता की जिम्मेदारी निभाई है।

बिहार के मुख्यमंत्री ने कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने के मसले पर बोला था कि यह लॉकडाउन का उल्लंघन बताया था। लेकिन इस बीच राज्य में भाजपा विधायक को अपने कोटा में फंसे बेटे के लिए पास जारी होने पर बवाल मच गया है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने इस लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि अगर आम और खास के बीच फर्क किया गया तो महाभारत होगा।
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने भी एक बार फिर मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है। प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया – कोटा में फंसे बिहार के सैकड़ों बच्चों की मदद की अपील को नीतीश कुमार ने यह कहकर ख़ारिज कर दिया था कि ऐसा करना लॉकडाउन की मर्यादा के ख़िलाफ़ होगा। अब उन्हीं की सरकार ने BJP के एक MLA को कोटा से अपने बेटे को लाने के लिए विशेष अनुमति दी है। नीतीश जी अब आपकी मर्यादा क्या कहती है?

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने के लिए बसें भेजी थी। इसका नीतीश कुमार ने पुरजोर विरोध करते हुए था कि यह नाइंसाफी है। ऐसे में लॉकडाउन का क्या मतलब रह जाएगा। राजस्थान भेजे गए बसों की परमिट रद्द कर देनी चाहिए। कोटा में बिहार के भी हजारों छात्र फंसे हैं। छात्रों ने सोशल मीडिया के जरिए नीतीश से मांग की थी कि उन्हें भी वापस बुलाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − = thirteen