भाजपा नेता एकनाथ खडसे ने कहा अजीत पवार से समर्थन नहीं लेना चाहिए था

New Delhi : भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे ने अपने ही पार्टी के फैसले पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने आज कहा कि अपनी कहा मेरी निजी राय है कि भाजपा को अजीत दादा पवार का समर्थन नहीं करना चाहिए था। वह बड़े पैमाने पर सिंचाई घोटाले का आरोपी है और कई आरोपों का सामना कर रहा है, इसलिए हमें उसके साथ गठबंधन नहीं करना चाहिए।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में मात्र दो दिनों में ही फडणवीस और अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया।

इस्तीफा देने के बाद बुधवार को अजित पवार मीडिया के सामने आए। सदन में विधायक की शपथ लेने के बाद उन्होंने कहा कि मैं NCP में था और हूं। क्या आपके पास मुझे पार्टी से निकालने की लिखित जानकारी है? मैं पार्टी में था और हूं।

अजित पवार ने कहा, नई सरकार में मेरी भूमिका पार्टी तय करेगी। उन्होंने कहा कि डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा देने का फैसला मैंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद किया। इसके बाद मैंने अपने पार्टी नेताओं से बात की थी।

इससे पहले अजित पवार महाराष्ट्र विधानसभा में शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे। पूर्व उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने मुस्कराते हुए वहां सबको चौंका दिया जब उनके वहां पहुंचते ही उनकी चचेरी बहन सुप्रिया सुले ने उनका स्वागत किया और इसके बाद उन्होंने उन्हें गले लगा लिया।
सुप्रिया सुले ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का भी गर्मजोशी से हाथ जोड़कर स्वागत किया और जब वे मुस्कराते हुए आगे बढ़े तो उनके कंधे पर हाथ रखकर उनसे बात की।