ईवीएम के सहारे सत्ता में पहुंची भाजपा अब धनबल से गैर भाजपाई सरकारों को गिरा रही है: माया

New Delhi: कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के 15 विधायकों के इस्तीफे की मार अभी कांग्रेस झेल नहीं पाई थी कि गोवा में कल रात 10 कांग्रेस के विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। इस इस्तीफे की जिम्मेदार मायावती ने भारतीय जनता पार्टी के माथे गढ़ा है। मायावती ने इस मुद्दे पर एक के बाद एक लगातार दो ट्वीट किये हैं। मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा है कि – “बीजेपी एक बार फिर कर्नाटक व गोवा आदि में जिस प्रकार से अपने धनबल व सत्ता का घोर दुरुपयोग करके विधायकों को तोड़ने आदि का काम कर रही है वह देश के लोकतंत्र को कलंकित करने वाला है। वैसे अब समय आ गया है जब दलबदल करने वालों की सदस्यता समाप्त हो जाने वाला सख्त कानून देश में बने।

मायावती ने आगे लिखा कि – ” बीजेपी ईवीएम में गड़बड़ी व धनबल आदि से केन्द्र की सत्ता में दोबारा आ गई लेकिन सन् 2018 व 2019 में देश में अबतक हुए सभी विधानसभा आमचुनाव में अपनी हार की खीज अब वह किसी भी प्रकार से गैर-बीजेपी सरकारों को गिराने के अभियान में लग गई है जिसकी बीएसपी कड़े शब्दों में निन्दा करती है”।

गोवा में कांग्रेस के 15 में से 10 विधायकों ने भाजपा में शामिल होने का ऐलान कर दिया है। ये विधायक मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के साथ कल देर रात दिल्ली पहुंच गए। आज मुख्यमंत्री सावंत और 10 विधायक केंद्रीय मंत्री शाह और कार्यवाहक अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करेंगे।

कर्नाटक में भी सत्तारूढ़ कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन पूरी तरह संकट की स्थिति में है। कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के बागी विधायकों ने इस्तीफे की पीछे के कारण को सरकारी के मंत्रियों के मनमानी रवैये को बताया। गठबंधन को तब झटका लगा जब दोनों दलों के 11 विधायकों ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया। दो निर्दलीय विधायकों को मिलाकर गठबंधन से 15 विधायकों ने मुंह फेर लिया है। इस मुद्दे को कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में उठाया । अधीर रंजन चौधरी को जबाब देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा – कर्नाटक में क्या चल रहा है? भाजपा का उससे कोई लेना देना नहीं है। भाजपा लोकतांत्रिक प्रक्रिया बनाए रखने के लिए हमेशा ही प्रतिबद्ध है। कांग्रेस के नेताओं का इस्तीफा रहुला गांधी से प्रेरित है। उन्होंने ने ही तो सबसे पहले इसकी शुरुआत की।

कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के बागी विधायक मुंबई के एक होटल में ठहरे हुए हैं। 10 बागी विधायकों ने मुंबई के पुलिस आयुक्त को एक पत्र लिखकर अपने सुरक्षा की मांग की है। जेडीएस की बागी विधायक नारायण गौड़ा ने बताया कि- “मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और डीके शिवकुमार उनके होटल आकर अपने शक्तिबल से हमें डरा-धमका सकते हैं।