कर्नाटक में भाजपा ने खरीद-फरोख्त करके सरकार गिराई,येदुरप्पा इस्तीफा दें : कांग्रेस

New Delhi: कर्नाटक विधानसभा में शक्ति परीक्षण के दौरान कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। कुमारस्वामी की सरकार सरकार गिर गई थी बाद में उन्हें सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था। उसके बाद भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता येदियुरप्पा ने प्रदेश की कमान संभाली थी। इस्तीफा दिए विधायकों को विधानसभा के स्पीकर ने अयोग्य ठहरा दिया था। बाद में इस्तीफे दिए गए विधायकों का मामला कोर्ट में गया।

तब भी विपक्षी दलों ने यह आरोप लगाया कि भाजपा ने भाजपा ने पैसे के दम पर इस्तीफा दिलवाई है।सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर के अयोग्य ठहराए जाने के फैसले को सही ठहराया है। वहीं, कोर्ट ने कहा है कि सभी 17 बागी विधायक उपचुनाव में हिस्सा ले सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधा है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ,’ सुप्रीम कोर्ट के निर्णय ने कर्नाटक में ‘ऑपरेशन कमल’ के ढोल की पोल खोल दी। सर्वोच्च अदालत ने आज कर्नाटक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा धन एवं बाहुबल के निर्लज्ज प्रयोग के ज़रिए विधायकों की ख़रीद फ़रोख़्त से सरकार बनाने के अनैतिक प्रयोग को ख़ारिज कर दिया है’।

उन्होंने आगे कहा कि ,’येदुरप्पा सरकार कानून व संविधान की दृष्टि से नाजायज सरकार है,उसे फौरन बर्खास्त करना चाहिए। जनमत व प्रजातांत्रिक मूल्यो की ये मांग है कि न केवल नाजायज येदुरप्पा सरकार बर्खास्त हो,परंतु धन-बल के आधार पर खरीद-फरोख्त कर,चुनी हुई JDS-कांग्रेस सरकार को गिराने के BJP षड्यंत्र की जांच हो’।