आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हुए बिहारी सपूत CRPF जवान रमेश रंजन

New Delhi : जम्मूकश्मीर के श्रीनगरबारामूला रोड पर आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया।आतंकियों ने बुधवार को पुलिस और सीआरपीएफ की 73वीं बटैलियन की पोस्ट पर हमला किया। सीआरपीएफ के जवानों ने मुंहतोड़देते हुए दो आतंकियों को मार गिराया और तीसरा भी घायल हो गया। इसी दौरान सीआरपीएफ के जवान रमेश रंजन के सिर में गोलीलग गई। इसके बावजूद वह गोली चलाते रहे और दो आतंकियों को ढेर करने के बाद शहीद हो गए। रमेश रंजन भोजपुर, बिहार के रहनेवाले थे। वहीं, तीसरे आतंकी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

तीनों आतंकी एक स्कूटर पर सवार होकर पारमपोरा के शालतेंग चेक पोस्ट के पास आए थे। उस दौरान वहां सीआरपीएफ के 13 जवानतैनात थे, जिसमें एक असिस्टैंट सबइन्स्पेक्टर भी थे। एएआई ही इस टीम की अगुआई कर रहे थे। सीआरपीएफ की 73वीं बटैलियन मेंतैनात रमेश रंजन की उम्र लगभग 31 साल थी। शहीद रमेश रंजन की बहादुरी का जिक्र करते हुए अधिकारियों ने बताया कि आतंकियोंको मारने में रमेश ने अहम भूमिका निभाई। रमेश ने दो आतंकियों को मार गिराने और एक को गंभीर रूप से घायल करने के ऑपरेशन मेंगजब का जज्बा दिखाया। इसी दौरान उनके सिर में गोली लग गई। हालांकि, इसके बाद भी वह आतंकियों पर गोलियां बरसाते रहे।सिर में लगी गोली के कारण कुछ देर बाद रमेश रंजन ने दम तोड़ दिया।

    मुठभेड़ के बाद जवान और मारे गये आतंकवादी

सीआरपीएफ के महानिदेशक (डीजी) एपी माहेश्वरी ने कहा कि हम अपने उस भाई को सलाम करते हैं, जिसने देश की रक्षा के लिएअपनी जान गंवा दी। हमारी सहानुभूति शहीद के परिजन और करीबियों के साथ है। रंजन की मौत के बाद श्रीनगर के सीआरपीएफ कैंपमें उनको अंतिम विदाई दी गई। उनके पार्थिव शरीर को एयरलिफ्ट करके पहले बिहार लाया जाएगा।

जम्मूकश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि आतंकियों ने पुलिस और सीआरपीएफ की पोस्ट पर हमला किया था।जवाबी फायरिंग में 2 आतंकी मारे गए थे। डीजीपी ने बताया कि इस साल अब तक 20 आतंकी मारे जा चुके हैं।

शहीद हुए सीआरपीएफ जवान रमेश रंजन का पार्थिव शरीर कल सुबह नौ बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचेगा। रमेश संजन बिहार के भोजपुरजिले के गोधना रोड के निवासी थे।

सीआरपीएफ के जवान रमेश रंजन के शहीद होने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। सीएम ने कहा किउनकी शहादत को देश हमेशा याद रखेगा।वे इस घटना से काफी मर्माहत हैं. मुख्यमंत्री ने शहीद के परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्यधारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। मुख्यमंत्री ने कहा है कि शहीद जवान का राज्य सरकार की ओर से पुलिससम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।