सूरत भीषण अग्निकांड के बाद बिहार में शुरू होगा अग्नि सुरक्षा के लिए विशेष अभियान

सूरत में बीते दिनों कोचिंग संस्थान में हुए भीषण अग्निकांड के बाद बिहार सरकार ने अग्नि सुरक्षा को लेकर विशेष अभियान चलाने का फैसला किया है।  सभी नगर निगम क्षेत्रों में नगर विकास एवं आवास तथा अग्निशमन विभाग मिलकर अभियान चलाएंगे।

इन अभियानों के अंतर्गत सभी शैक्षिक संस्थान, कोचिंग, व्यवसायिक भवन, अस्पताल, सिनेमाघर, मॉल आदि में आग से सुरक्षा के इंतजामों की जांच की जाएगी। अभियान को सही ढंग से लागू करने के लिए सभी जिला पदाधिकारियों और नगर आयुक्तों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और पत्र के जरिए दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

राज्य के पटना, मुजफ्फरपुर, छपरा, बिहारशरीफ, भागलपुर, दरभंगा, गया, आरा, बेगूसराय, कटिहार, मुंगेर, पूर्णिया में विशेष अभियान चलाया जाएगा। जिसके तहत नगर आयुक्तों को जिला प्रशासन संग मिलकर जांच करने को कहा गया है। यह निर्देश भी दिए गए हैं कि 15 मीटर या उससे अधिक ऊंचाई वाले अथवा 500 मीटर से अधिक के आच्छादित जमीनी क्षेत्रफल वाले बहुमंजिला भवनों में आग से सुरक्षा के इंतजामों की जांच की जाएगी।

सूरत भीषण अग्निकांड के बाद बिहार में अग्नि सुरक्षा के लिए विशेष अभियान
सूरत भीषण अग्निकांड के बाद बिहार में अग्नि सुरक्षा के लिए विशेष अभियान

व्यावसायिक भवनों के साथ ही मिश्रित उपयोग वाले भवनों में भी सुरक्षा इंतजाम की जांच की जाएंगे। देखा जाएगा कि इन भवनों में सुरक्षा उपकरण हैं या नहीं। यदि हैं तो वे किस हालत में हैं। उनका प्रयोग आपातकालीन स्थिति में किया जा सकता है या नहीं । उनके प्रयोग की जानकारी लोगों को है या नहीं। ऐसी सभी चीजों की जांच की जाएगी ।

नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद द्वारा संबंधित जिला पदाधिकारियों और नगर आयुक्तों को दिए निर्देश में वर्षा जल संरक्षण प्रणाली को प्रभावी बनाने की बात भी कही गयी है। जांच के दौरान यह भी देखा जाएगा कि कितने भवनों में वर्षा जल संरक्षण (रेन वाटर हार्वेस्टिंग) की व्यवस्था है।

हाल ही में ही सूरत के सरथाना में तक्षशिला आर्केड बिल्डिंग में भीषण अग्निकांड हुआ था । इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में 20 बच्चों की जान चली गई और कई गंभीर रूप से घायल हुए थे । जिस फ्लोर में अग्निकांड हुआ वहां एक गैर कानूनी कोचिंग संस्थान चल रहा था जिसकी छत को फाइबर से बनाया गया था । इस घटना के बाद गुजरात सरकार ने कड़े कदम उठाते हुए गैर कानूनी रूप से चल रहे कोचिंग संस्थानों पर रोक लगा दी थी ।