डॉ.पायल तड़वी मा’मला: विरोध प्रदर्शन में उतरी भीम आर्मी,कहा ये आत्मह’त्या नहीं ह’त्या है

New Delhi : आदिवासी समुदाय से पहली महिला डाक्टर की आत्मह’त्या का मा’मला तूल पकड़ता जा रहा है।अब भीम आर्मी की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अशोक कांबले ने बुधवार को BYL नायर अस्पताल के बाहर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।उन्होंने आरोप लगाया है कि डॉ. पायल तड़वी की मौत आत्मह’त्या के कारण नहीं, बल्कि उनकी “ह’त्या” की गई थी। उन्होंने अस्पताल प्रशासन द्वारा निलंबित किए गए अधिकारियों और तीनों आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है

समाचार एजेंसी एएनआई से उन्होंने कहा।”हमें कुछ जानकारी मिली है जिससे पता चलता है कि यह आत्मह’त्या का मामला नहीं है। ह’त्या के बाद से पायल की ऊपरी पीठ पर कुछ निशान हैं, हम पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। हम मांग करते हैं कि अ’त्याचार अधिनियम के तहत आरोपियों को सजा दी जाए।हम उसी की मांग के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, ”

कांबले ने भीम आर्मी की तीन मांगों को रखा, उन्होंने कहा, “हम चाहते हैं कि पायल तडवी की मौ’त के आरोपियों के अलावा बाकी लोग जो इसमें शामिल हैं उन्हें भी मौ’त की सजा दी जाए।हम सभी नायर अस्पताल के एससी /एसटी छात्रों से पूछना चाहते हैं कि क्या वे यहां किसी उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं। ‘

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा है कि अगर आरोपियों पर कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई तो मैं खुद 30 मई को मुंबई आउंगा।उन्होंने चे’तावनी देते हुए कहा कि अगर मेरे यहां आने से प्रशासन ने अगर रूकावट डाली तो,इसके लिए खुद राज्य सरकार जिम्मेदार होगी।

इस मा’मले के तीनों आरोपी डॉक्टरों- अंकिता खंडेलवाल, भक्ति मेहरा और हेमा आहूजा को गिरफ्तार कर लिया गया है और आज अदालत में पेश किए जाने की संभावना है। मेहरा और आहूजा को मंगलवार को गिर’फ्तार किया गया था।

इन तीनों डॉक्टरों को 22 मई को अपना जीवन समाप्त करने के लिए अनुसूचित जनजाति समुदाय से संबंध रखने वाले पोस्ट-ग्रेजुएट मेडिकल छात्र तडवी को कथित रूप से अ’पहरण करने के लिए गि’रफ्तार किया गया था।